बोर्ड पर बने काटरून बच्चों को पढ़ा रहे पाठ

बाराबंकी: बाराबंकी के प्राथमिक विद्यालय विशुनपुर सेकेंड में पढ़ाई काटरून देखने जितनी रोचक है। युवा शिक्षक संपन्न के नवाचार ने ब्लैक बोर्ड को टीवी सा मनोरंजक कर दिया है। बोर्ड पर बने काटरून यहां बच्चों को पाठ पढ़ाते हैं तो वहीं, बच्चों के क्राफ्ट जीवंत होकर अपने बारे में सबको बताते हैं। पठन-पाठन के रुचिकर माहौल के चलते यहां उपस्थिति करीब 85 फीसद रहती है।

बदहाल बेसिक स्कूलों के बीच यह इंग्लिश मीडियम प्राइमरी विद्यालय बताता है कि एक शिक्षक ठान ले तो अपने स्कूल की तस्वीर बदल सकता है। सुनियोजित पाठ योजना के साथ पठन-पाठन को रुचिकर बनाकर बच्चों को खुद-ब-खुद स्कूल आने को प्रेरित किया जा सकता है।

फतेहपुर ब्लॉक के इंग्लिश मीडियम प्राथमिक विद्यालय विशुनपुर सेकंड के संपन्न ऐसा ही कहते हैं। उन्होंने दो एनीमेशन पात्र बनाए हैं- ‘राजू’ और ‘मीना’। दोनों पात्र बच्चों के हर प्रश्न का जवाब देते हैं। एक एप की मदद से संपन्न बच्चों के क्रॉफ्ट को भी इसी तरह से एनीमेशन में बदलकर उनके लिए सीखने की प्रक्रिया को रोचक बना देते हैं।

कुछ यूं पढ़ाते हैं संपन्न : एंड्रॉयड मोबाइल में चैटर पिक्स और स्पीक पिक्स एप से वह ऐसा करते हैं। पहले वह ‘राजू’ या ‘मीना’ की आकृति बोर्ड पर बनाकर फोटो खींचते हैं। फिर होठों को अंडरलाइन करते हैं। वॉयस कमांड से विषयानुसार आवाज डब करके प्ले करते ही पात्र बोलने लगते हैं।

तकनीक का भरपूर इस्तेमाल : संपन्न ऑगमेंटेड रियलिटी (आसपास के वातावरण से मेल खाता कंप्यूटरजनित माहौल), 3-डी और कई अन्य तकनीक का प्रयोग करते हैं। प्रोजेक्टर, एलईडी, लैपटॉप और मोबाइल से शिक्षा को रोचक बनाते हैं। यूट्यूब और अन्य साइटों से भी उपयोगी जानकारी एकत्र कर वह बच्चों तक पहुंचाते हैं।

विशुनपुर सेकेंड के विद्यालय में बोर्ड के चित्रों को एनीमेशन में बदलकर पढ़ाई को रोचक बना रहे शिक्षक संपन्न कुमार

ये मिले सम्मान

– वर्ष 2017 में शिक्षा में प्रौद्योगिकी के प्रयोग के लिए राष्ट्रपति के हाथों राष्ट्रीय इनफार्मेशन एंड कम्युनिकेशन टेक्नोलॉजी पुरस्कार मिला

– भोपाल में 2018 में 22 वें आइटीसी मेला में एनसीईआरटी के डायरेक्टर हृषिकेश सेनापति और अभिनेता मुकेश खन्ना ने सम्मानित किया

फतेहपुर के प्राथमिक विद्यालय विशुनपुर सेकंड में बच्चों को प्रोजेक्ट से एनिमेशन बनाने की प्रक्रिया समझाते संपन्न कुमार ’ जागरण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.