परीक्षा केंद्र बनाने को अभी भी लगा रहे जुगाड़

प्रतापगढ़ : वर्ष 2020 की हाई स्कूल एवं इंटर की परीक्षा में केंद्र बनाने के लिए अभी भी केंद्र संचालक परिक्रमा कर रहे हैं। जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय के साथ ही मंत्री, विधायक व सांसद के यहां जुगाड़ लगा रहे हैं। जनप्रतिनिधि भी उनके सामने डीआइओएस व डीएम से वार्ता कर उन्हें संतुष्ट करने का प्रयास कर रहे हैं।

इस बार हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा में जिले में कुल एक लाख 19 हजार 719 परीक्षार्थियों के लिए 199 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। इनमें से पांच राजकीय, 67 सहायता प्राप्त तथा 127 वित्तविहीन विद्यालय शामिल हैं। इन परीक्षा केंद्रों पर माध्यमिक शिक्षा परिषद की अंतिम मुहर लग गई है। पूर्व में बोर्ड द्वारा निर्धारित किए गए 197 परीक्षा केंद्रों में जहां पांच वित्तविहीन कालेज बढ़ गए, वहीं दो राजकीय व एक सहायता प्राप्त विद्यालय कम हो गए हैं। इस बार यूपी बोर्ड की हाईस्कूल एवं इंटर की परीक्षाएं 18 फरवरी से शुरू होकर छह मार्च तक चलेंगी। यूपी बोर्ड ने परीक्षा के लिए प्रारंभिक तौर पर जिले में 197 परीक्षा केंद्र बनाए थे। इनमें सात राजकीय, 68 सहायता प्राप्त व 122 वित्त विहीन विद्यालय शामिल रहे। इसके बाद डीआइओएस कार्यालय द्वारा आपत्तियां मांगी गई। विभाग में कुल 289 आपत्तियां आईं। इनमें 137 केंद्र बनाने के लिए, 129 परीक्षा केंद्र दूरी को लेकर, 10 केंद्र निरस्त किए जाने तथा 13 धारण क्षमता कम किए जाने को लेकर रहीं। इन आपत्तियों के निस्तारण के लिए डीएम मार्कंडेय शाही ने संबंधित एसडीएम को जिम्मेदारी दी थी। एसडीएम के सत्यापन के बाद जिला स्तरीय समिति द्वारा कुल 199 केंद्रों का प्रस्ताव बोर्ड को भेजा गया। बोर्ड ने जिला समिति द्वारा भेजे गए प्रस्ताव पर अपनी अंतिम मुहर लगा दी। बोर्ड से सूची जारी होने के बाद लालगंज, संग्रामगढ़, पट्टी क्षेत्र के स्कूलों के ऐसे संचालक जिनके विद्यालय परीक्षा केंद्र नहीं बन सके उन लोगों ने दौड़ भाग शुरू कर दी है। दो दिन पूर्व पीडब्लूडी में आए कैबिनेट मंत्री राजेंद्र प्रताप सिंह मोती सिंह के पास पहुंचे पट्टी क्षेत्र के आधा दर्जन स्कूल संचालकों ने बोर्ड परीक्षा में उनके विद्यालय को केंद्र न बनाने की शिकायत की। इस पर मंत्री ने डीआइओएस से बात कर समस्या का निदान कराने का आश्वासन दिया। इसी प्रकार विधायक सदर, सांसद व अन्य विधायकों से भी केंद्र बनाने की मांग की जा रही है।

ये भी पढ़ें : सीसी कैमरे से वीडियो रिकॉर्डिग के सख्त आदेश के बाद UP Board का लचीला रवैया

मुख्यमंत्री से केंद्र निरस्त करने के लिए की गई शिकायत: जूनियर हाईस्कूल की भूमि एवं भवन पर इंटर की मान्यता लेने की शिकायत मुख्यमंत्री से की गई है। हरदोई जिले के दौलतयारपुर माधवगंज निवासी प्रवीण कुमार सिंह ने सीएम को की गई शिकायत में कहा है कि गजरिया पट्टी स्थित ठाकुर श्याम सुन्दर सिंह लघु माध्यमिक विद्यालय ने जूनियर विद्यालय की भूमि पर इंटर की मान्यता ले ली। उसे बोर्ड परीक्षा का केंद्र भी बना दिया गया है। उन्होंने केंद्र को निरस्त करने की मांग की है।

हाईस्कूल एवं इंटर की परीक्षा के लिए जिले में कुल 199 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। नेताओं के पास लोग जा रहे हैं। परीक्षा केंद्रों का निर्धारण बोर्ड ने किया है, इसमें वह कुछ नहीं कर सकते। -सर्वदानंद, डीआइओएस

इन्हें बनाया गया केंद्र

आपत्तियों के निस्तारण के बाद जिन विद्यालयों को केंद्र बनाया गया उनमें तिलक कालेज प्रतापगढ़ , तेजवती सुरेंद्र बहादुर इंटर कॉलेज कलीमुरादपुर, साधुरी शिरोमणि कालेज धनसारी, गया प्रसाद श्रीवास्तव कॉलेज रानीपुर पट्टी, बाबा अनुराग दास कालेज इब्राहिम पुर, राज कन्या कालेज वेधन गोपालपुर, परमेश्वर इंटर कॉलेज मालाधर छत्ता, रामफल कालेज देहंगरी जमालपुर, संतोष सेवा कालेज दखवापुर शामिल हैं। जिन कालेजों को सूची से बाहर किया गया उनमें राजकीय उच्चतर मा. विद्यालय कुकआर, राजकीय उच्चतर मा. विद्यालय अतरौरा, उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सराय नाहर राय, उमरी कोटिला, राम नरेश इंटर कालेज पूरे धनऊ, आचार्य नरेंद्र देव इंटर कालेज नरेंद्र नगर विनैका आदि शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.