बर्खास्त शिक्षकों के खिलाफ बीईओ की तहरीर पर केस दर्ज कर छानबीन शुरू

मोहाना थाने की पुलिस ने फर्जी दस्तावेजों के सहारे नौकरी करने वाले तीन परिषदीय स्कूलों के बर्खास्त शिक्षकों के खिलाफ बीईओ की तहरीर पर केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। सभी शिक्षक लोटन ब्लॉक के विभिन्न स्कूलों में तैनात थे।

बीईओ लोटन शिव कुमार प्रसाद ने शुक्रवार को पुलिस को दिए तहरीर में कहा कि मिक्की सिंह पुत्री जनार्दन सिंह शिक्षक प्राथमिक विद्यालय सिसवा मूल निवासी केसारी थाना चिल्हिया, मोहम्मद खान पुत्र हसनबीन शिक्षक प्राथमिक विद्यालय गुजरौलिया मूल निवासी जैतपुरा सोहनपुर थाना बनकटा जिला देवरिया व राजेश कुमार गुप्त पुत्र बचवन गुप्त शिक्षक पूर्व माध्यमिक विद्यालयमहथावल मूल निवासी पनिया थाना मनियर जिला बलिया कूटरचित दस्तावेजों के सहारे नौकरी कर रहे थे। इनके खिलाफ केस दर्ज कर कार्रवाई की जाए। तहरीर के आधार पर तीनों के खिलाफ धारा 419, 420, 467, 468 व 471 के तहत केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। मोहाना थानाध्यक्ष जय प्रकाश दुबे का कहना है कि बीईओ की तहरीर पर केस दर्ज कर जांच की जा रही है। अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

फर्जी शिक्षकों को बर्खास्त करने के बाद मौजकरने की छूट देरखे परिषदीय विभाग ने शासन की फटकार के बाद मुकदमा लिखवाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। आठ दिनों की लेटलतीफी के बाद बीएसए राजेंद्र सिंह ने निर्णय लेते हुए बीईओ को संबंधित ब्लॉक क्षेत्र के थानों पर मुकदमा लिखवाने का आदेश दिया है। बीएसए ने बीईओ के साथ बैठक कर अविलंब 54 फर्जी शिक्षकों पर मुकदमा लिखवाने का आदेश दिया है।

जिले में एक साल पहले 54 फर्जी शिक्षक पकड़े गए थे। इन शिक्षकों को बर्खास्त करने के बाद तत्कालीन बीएसए ने मुकदमा लिखवाने का आदेश दिया था। बीएसए के आदेश पर बीईओ कुंडली मार कर बैठे थे शासन ने फर्जी शिक्षकों पर मुकदमें की कार्रवाई न होने पर महानिदेशक से जवाब तलब किया है। शासन की सख्ती के बाद महानिदेशक स्कूल शिक्षा विजय किरण आनंद ने तीन अप्रैल को गूगल मीट के जरिए बीएसए राजेंद्र सिंह को फटकार लगाते हुए सभी पर मुकदमा दर्ज कराने का सख्त आदेश दिया था आनन-फानन में तीन अप्रैल की शाम सदर थाने में 31 शिक्षकों के खिलाफ सात ब्लॉकों के बीईओ ने तहरीर दे दी है, लेकिन मुकदमा दर्ज नहीं किया गया था। सदर एसओ क्षेत्रपाल सिंह ने बीएसए से सभी शिक्षकों के खिलाफ एक तहरीर देने पर सदर थाने में और अलग-अलग तहरीर देने पर ब्लॉक क्षेत्र के थाने में मुकदमा दर्ज कराने का राय दिया था। पुलिस के इस सुझाव पर बीएसए ने आठ दिनों तक निर्णय लेते हुए ब्लॉक क्षेत्र के थानों में मुकदमा लिखवाने का फैसला किया। बीईओ को जल्द से जल्द मुकदमा लिखवाने का आदेश दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.