यूपी बोर्ड की हाईस्कूल, इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षाएं चुनाव बाद होने की उम्मीद

30 अप्रैल तक पंचायत चुनाव कराने के हाईकोर्ट के आदेश के बाद अब तय हो गया है कि यूपी बोर्ड की हाईस्कूल, इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षाएं चुनाव बाद ही होंगी। सरकार की ओर से पंचायत चुनाव पर कोई निर्णय नहीं लेने के चलते यूपी बोर्ड परीक्षा की तिथि पर असमंजस बना हुआ है। कोविड-19 संक्रमण के चलते बोर्ड की ओर से पहले ही परीक्षा फरवरी-मार्च की बजाय आगे कराने का फैसला किया गया है। अब अप्रैल में पंचायत चुनाव की संभावना को देखते हुए अब बोर्ड परीक्षा सीबीएसई के ही साथ मई-जून में कराई जा सकती है।

सीबीएसई ने कोवडि-19 के चलते कक्षाएं नहीं चलने और कोर्स अधूूरा होने के कारण बोर्ड परीक्षा मार्च में कराने की अपेक्षा मई-जून में कराने का फैसला किया गया है। अब यूपी बोर्ड भी सीबीएसई की ही राह पर चलता दिखाई पड़ रहा है। यूपी बोर्ड के अधिकारियों को हाईकोर्ट के आदेश के बाद सरकार के अगले फैसले का इंतजार है।

सरकार के दिशा निर्देश के बाद ही यूपी बोर्ड की ओर से परीक्षा कार्यक्रम तैयार करके शासन को मंजूरी के लिए भेजेगा। यूपी बोर्ड की ओर से शासन के पास परीक्षा का कोई प्रस्ताव नहीं भेजा गया है। बोर्ड की ओर से इन दिनों इंटरमीडिएट की प्रयोगात्मक परीक्षाएं कराई जा रही हैं। प्रयोगात्मक परीक्षा तीन फरवरी से शुरू होकर 22 फरवरी को पूरी होगी। बोर्ड की ओर से इस बीच केंद्र निर्धारण का काम तेजी से चल रहा है। फरवरी के अंत तक परीक्षा केंद्र तय कर दिए जाएंगे।