बीएसए ने मिड-डे मील की देखी गुणवत्ता, किया खुद ही निरीक्षण, दिए यह निर्देश

बसापरिषदीय विद्यालयों में बनने वाला मध्याह्न भोजन गुणवत्तापूर्ण होना चाहिए। इसमें मानक की अनदेखी बरती गई तो संबंधित लोगों पर कार्रवाई होना तय है। प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक स्कूलों में पढ़ने वाले नौनिहालों को बेहतर शिक्षा व्यवस्था मुहैया कराया जाए।

यह निर्देश बुधवार को कई विद्यालयों में निरीक्षण के बाद बीएसए भूपेंद्र नारायण सिंह ने दिया। बीएसए ने प्राथमिक विद्यालय अजयुपर में निरीक्षण किया। दो शिक्षामित्र बिना आनलाइन सूचना के गैरहाजिर थे। कायाकल्प के तहत विद्यालय में काम कराने का निर्देश दिया। बच्चों के लिए बन रहे मध्याह्न भोजन की गुणवत्ता जांचा। प्राथमिक विद्यालय चकगनेशा में निरीक्षण किया। समस्त शिक्षक उपस्थित मिले। सहायक प्रधानाध्यापक आरती सिंह बिना आनलाइन आवेदन के अनुपस्थित मिले। स्कूल का भौतिक परिवश सही था। प्राथमिक विद्यालय चककलूटी धमके बीएसए ने रसोई आदि को देखा। बच्चों के लिए बन रहा भोजन देख गुणवत्ता को परखा। कायाकल्प के तहत काम कराने का निर्देश दिया।

यह भी पढ़ेंः  क्या मिड डे मील चखना भी शिक्षकों के कर्तव्य और दायित्व में शामिल है?

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.