यूपी बोर्ड के 558 विद्यालयों की सूचनाएं आधी-अधूरी

प्रयागराज : यूपी बोर्ड के निर्देश पर हाल में ही कक्षा 9 व 11 का पंजीकरण और कक्षा 10 व 12 का परीक्षा फार्म भरने का कार्य पूरा हुआ है। प्रदेश के तमाम जिलों के माध्यमिक कालेजों ने शुल्क जमा करने के साथ ही सूचनाएं आधी-अधूरी दी हैं, ऐसे कालेजों की तादाद 558 है और वहां पंजीकृत छात्र-छात्रओं की संख्या काफी अधिक है। बोर्ड प्रशासन ने जिला विद्यालय निरीक्षकों को निर्देश दिया है कि सभी रिकॉर्ड मंगाकर इन प्रकरणों की जांच की जाए, ताकि प्रक्रिया पूरी हो सके।

यूपी बोर्ड शैक्षिक सत्र 2019-20 के लिए कक्षा 9 व 11 का ऑनलाइन पंजीकरण शुल्क और 2020 की परीक्षा से संबंधित हाईस्कूल व इंटर के परीक्षार्थियों का परीक्षा शुल्क जमा करवाया है। कालेजों को शुल्क के साथ ही छात्र-छात्रओं का विवरण वेबसाइट पर अपलोड करने के निर्देश थे। बोर्ड की जांच में सामने आया है कि 558 कालेजों ने सूचनाएं आधी-अधूरी या फिर गलत अपलोड कर दी हैं। इसलिए उन स्कूलों की नामावलियां ऑनलाइन जनरेट नहीं हो पा रही हैं। इनमें कक्षा 9 व 11 के पंजीकरण में गड़बड़ी 269 कालेजों ने की है, जबकि हाईस्कूल व इंटर के परीक्षा में खामी 286 स्कूलों ने की है, वहीं तीन निजी कालेजों की सूचना गलत है। बोर्ड सचिव नीना श्रीवास्तव ने ऐसे कालेजों का विवरण वेबसाइट पर अपलोड किया है और जिला विद्यालय निरीक्षकों को निर्देश दिया है कि वे विद्यालयों से पंजीकरण व परीक्षा शुल्क का ब्योरा मंगाकर उनकी जांच कर लें कि छात्र-छात्रओं की संख्या के सापेक्ष विद्यालयों ने जो शुल्क जमा किया है वह पर्याप्त है या नहीं। जांच के बाद कालेज की ओर से जमा किए गए शुल्क का ब्योरा दें। शुल्क पर्याप्त है या नहीं इस पर संक्षिप्त टिप्पणी भी दें। यह रिपोर्ट दो दिन में मांगी है, ताकि उसके बाद नामावली जनरेट हो सके। इस सूची में नकल के लिए कुख्यात जिलों की संख्या सबसे आगे है। जिनमें गाजीपुर, आजमगढ़, प्रतापगढ़, इटावा, अलीगढ़ व मैनपुरी आदि हैं। जिला व स्कूलवार पूरा ब्योरा वेबसाइट पर अपलोड कर दिया गया है।

0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.