उत्तर प्रदेश के 32 राजकीय और अनुदानित पॉलिटेक्निक संस्थानों में 2733 सीटें बढ़ाईं


अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने प्रदेश के 32 राजकीय और अनुदानित पॉलिटेक्निक संस्थानों में 2733 सीटों को बढ़ा दिया है. इससे डिप्लोमा इंजीनियरिंग में ज्यादा छात्रों को प्रवेश मिल सकेगा.प्राविधिक शिक्षा निदेशक मनोज कुमार ने बताया संस्थानों के बेहतर प्रदर्शन और मानकों पर खरे उतरने के बाद एआईसीटीई ने सीटों को बढ़ाया है. प्रदेश में 147 राजकीय और 19 अनुदानित पॉलिटेक्निक संस्थान हैं, जिनमें 34185 सीटें थीं जो अब बढ़कर 36918 हो गई हैं. 32 संस्थानों में सीटें बढ़ाई गई हैं.

संस्थानों में बढ़ाई गईं सीटों की संख्या अलग-अलग है. राजकीय polytechnic etah की सीटें दोगुनी कर दी गई हैं. अब यहां सभी ब्रांचों में सीटों को 30 की जगह 60 सीटों पर दाखिला दिया जाएगा. वहीं, हंडिया पॉलिटेक्निक प्रयागराज में पिछले वर्ष सीटों की संख्या को शून्य कर दिया गया था. इस बार एआईसीटीई ने 60 सीटों को मान्यता दी है.

इन राजकीय पॉलिटेक्निक संस्थानों में बढ़ीं सीटें
राजकीय पॉलिटेक्निक ललितपुर, राजकीय पॉलिटेक्निक झांसी, राजकीय पॉलिटेक्निक सोनभद्र, राजकीय पॉलिटेक्निक बस्ती, राजकीय पॉलिटेक्निक महाराजगंज, राजकीय पॉलिटेक्निक प्रतापगढ़, राजकीय पॉलिटेक्निक बलिया, राजकीय पॉलिटेक्निक बाराबंकी, राजकीय पॉलिटेक्निक छाछा मैनपुरी, राजकीय पॉलिटेक्निक बदायूं, राजकीय पॉलिटेक्निक चंदौसी, राजकीय पॉलिटेक्निक एटा , राजकीय पॉलिटेक्निक मोहम्मदी खीरी, राजकीय पॉलिटेक्निक गाजियाबाद, राजकीय पॉलिटेक्निक टूंडला, राजकीय पॉलिटेक्निक बागपत, राजकीय पॉलिटेक्निक हरदोई, राजकीय पॉलिटेक्निक बहराइच, राजकीय पॉलिटेक्निक अमेठी, राजकीय पॉलिटेक्निक अंबेडकर नगर, राजकीय पॉलिटेक्निक उन्नाव, राजकीय पॉलिटेक्निक श्रावस्ती, राजकीय पॉलिटेक्निक बलरामपुर, राजकीय पॉलिटेक्निक राठ हमीरपुर और राजकीय पॉलिटेक्निक मऊ .

इन अनुदानित पॉलिटेक्निकों में बढ़ीं सीटें
महामाया ऑफ इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी (एमएमआईटी) पॉलिटेक्निक औरैया, एमएमआईटी पॉलिटेक्निक चंदौली, हंडिया पॉलिटेक्निक प्रयागराज, एमएमआईटी पॉलिटेक्निक जेपी नगर, दिगंबर जैन पॉलिटेक्निक बड़ौत-बागपत, श्री अनर देवी खंडेलवाल महिला पॉलिटेक्निक मथुरा, गांधी पॉलिटेक्निक मुजफ्फरनगर और प्रेम महाविद्यालय पॉलिटेक्निक मथुरा की सीटें बढ़ीं हैं .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.