उच्च शिक्षा बेहतर बनाने को दूर होगी शिक्षकों की कमी

लखनऊ : योगी सरकार सूबे में उच्च शिक्षा की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए जल्द ही अहम फैसले कर सकती है। विश्वविद्यालयों में शिक्षकों की कमी को दूर करने के साथ ही कुलपति का कार्यकाल पांच वर्ष किया जा सकता है। गुरुवार देर शाम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल राम नाईक से मिलने राजभवन पहुंचे। लगभग एक घंटे राजभवन में रहे योगी से राज्यपाल ने उन तमाम मुद्दों पर विस्तार से बात की जिन्हें पूर्व की अखिलेश सरकार लटकाए रखी। राजभवन प्रवक्ता के मुताबिक राज्यपाल ने मुख्यमंत्री से राज्य के विश्वविद्यालयों को उत्कृष्टता का केंद्र बनाने के लिए शिक्षको की कमी दूर करने, शैक्षिक गुणवत्ता में सुधार तथा उच्च शिक्षा से जुड़े अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर बात की। सूत्र बताते हैं कि राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को बताया कि तकरीबन 40 फीसद शिक्षकों के पद खाली पड़े हैं जिन्हें भरने के लिए पूर्व की सपा सरकार ने पहल नहीं की। राज्यपाल ने शैक्षिक गुणवत्ता सुधारने के लिए कुलपति का कार्यकाल बढ़ाकर पांच वर्ष किए जाने के संबंध में भी मुख्यमंत्री से चर्चा की। सूत्र बताते हैं कि राज्यपाल द्वारा उठाए गए मुद्दों पर मुख्यमंत्री का सकारात्मक रुख रहा और उन्होंने इस संबंध में जल्द ही फैसला करने की बात कही है। गौरतलब है कि कुलाधिपति होने के नाते नाईक, शैक्षिक गुणवत्ता सुधारने को लेकर काफी गंभीर रहते हैं। पूर्व की सपा सरकार से भी इस संबंध में उन्होंने कहा था लेकिन तब उनकी बातों पर ध्यान नहीं दिया गया था।

सूत्र बताते हैं कि राज्यपाल ने विकास प्राधिकरणों की ऑडिट सीएजी से कराए जाने के फैसले पर मुख्यमंत्री से चर्चा करते हुए अपेक्षा की कि सभी प्राधिकरणों की ऑडिट करायी जानी चाहिए। इसके क्रियांवयन के लिए सीएजी के पास स्टाफ आदि की व्यवस्था देखी जानी चाहिए। राज्यपाल ने मुख्यमंत्री को पूर्व की सरकार द्वारा भेजे गए लंबित विधेयकों के बारे में भी बताया। उन विधेयकों की भी जानकारी दी जो राष्ट्रपति के स्तर पर विचाराधीन है। सूत्रों के मुताबिक राज्यपाल ने मुख्यमंत्री ने विधानसभा में अपने अभिभाषण को छोटा ही रखने को कहा है। राज्यपाल ने कहा कि पूर्व की सपा-बसपा सरकारों की तरह विधानसभा का सत्र मात्र कुछ ही दिन न चले बल्कि उसे ठीक से अधिक दिन चलाया जाए।’राज्यपाल ने विवि की शैक्षिक गुणवत्ता सुधारने के मुद्दे पर मुख्यमंत्री से बात की1’सभी विकास प्राधिकरणों की ऑडिट कराए जाने पर भी सीएम से की चर्चा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.