जूनियर हाईस्कूल शिक्षक भर्ती परीक्षा में हाई कोर्ट ने दिया मौका, पीएनपी ने खोले काउंटर

Court
प्रयागराज: एडेड जूनियर हाईस्कलों में सहायक अध्यापक पट को भर्ती परीक्षा में स्नातक में 50 फीसद से कम अंक पाने बालों को शामिल किए जाने के हाई कोर्ट के आदेश के ब्राद परीक्षा नियामक प्राधिकारी (पीएनपी) सचिव ने आफलाइन आवेदन लेने शुरू कर दिए। 17 अक्टबर को होने बाली परीक्षा में शामिल होने के लिए आवेदन सात अक्टूबर तक लिए जाने के आदेश के अनुपालन में तीन काउंटर खोले। दूर के जिले से आवेदन के लिए अभ्यर्थी गुरुवार को देर रात तक पहुंचते रहे। करीब टेढ हजार से ज्यादा ने आवेदन जमा किए टूरदराज के जिले बालों की सविधा के लिए आनलाइन आवेदन लिए जाने की मांग को लेकर युवा मंच ने दिन में प्रदर्शन किया। इस परीक्षा के लिए परीक्षा नियामक प्राधिकारी ने 688 केंद्र तय कर अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र भी वेबसाइट पर अपलोड कर दिए गए हैं। इस भर्ती परीक्षा में स्नातक में 50 फीसद से ज्यादा अंक पाने वाले पात्र अध्यर्थियों को भी आवेदन करने का मौका दिया गया था। इसके विरोध में ब्रीएड प्रशिक्षित टीइंटी व सीर्टीईटी पास लेकिन स्नातक में 50 फीसद से कम अंक पाने वाले कुछ अभ्यर्थी कोर्ट चले गए। अदालत ने उनके पक्ष में फेसला सुनाया। आदेश के अनुपालन में अभ्यर्थियों को आवेदन करने का अवसर परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव संजय कुमार उपाध्याय ने दिया। आवेदन के लिए समय कम होने पर रिक्त पदों को भरे जाने की मांग को लेकर आंदोलन चला रहे युवा मंच के अध्यक्ष अनिल सिंह ब्रेरोजगारों के साथ परीक्षा नियामक कार्यालय पहुंच गए। मांग की कि आवेदन का समय बढ़ाकर आनलाइन मोड़ में भी फार्म लिए जाएं। गुरुवार को गोरखपुर से पहुंचे रितेश चौधरी, संतकब्ीरनगर से महेंद्र यादव, गाजीपुर से दिव्यांग राजेश यादव, मनोज कुमार गृप्ता प्रवेश कुमार श्रीवास्तव ने फार्म भर pnp कार्यालय के ब्राहर विद्युत रोशनी व्यवस्थित न होने पर उन्हें मोब्राइल की रोशनी में फार्म भरना पढ़ा। सहयोग करने के लिए अनिल सिंह के नेतृत्व में युवा मंच की टीम ने आवेदन फार्म उपलब्ध कराए। अभ्यर्थियों का कहना था कि आनलाइन मोड़ में आवेदन लिए जाने पर उन्हें परेशान न होना पड़ता।

यह भी पढ़ेंः  दो पालियों में विद्यालय संचालित करने की अनिवार्यता वाले शासनादेश को किया संशोधित

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.