पाठ्य पुस्तकों की कमी से जूझ रहे हरियाणा के शिक्षा विभाग ने तलाशा उपाय

पाठ्य पुस्तकों की कमी से जूझ रहे हरियाणा के शिक्षा विभाग ने तलाशा है। इसके लिए छात्रों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। विभाग ने बच्चों से कहा है कि वे किताबें सुरक्षित रखंे और सत्र समाप्त होने के बाद स्कूल में जमा कर दें। शिक्षा विभाग ने कहा है कि शैक्षिक सत्र के अंत में विद्यार्थी सभी पाठ्य पुस्तकें अपनी-अपनी कक्षा के प्रभारी अध्यापकों को वापस लौटाएंगे।

ऐसे विद्यार्थियों को आंतरिक मूल्यांकन के दो फीसद अंक ज्यादा दिए जाएंगे। 1विद्यालय शिक्षा निदेशालय ने प्रदेश के सभी जिला शिक्षा अधिकारियों को आदेश जारी किए हैं कि बच्चों से लौटाई गई किताबें उपलब्ध होते ही उसी दिन विद्यार्थियों को वितरित कर दी जाए। विद्यार्थियों को किताबें मिलने पर उस पर कवर चढ़ाने के लिए कहा गया है। दरअसल, पाठ्यपुस्तकों की कमी से जूझ रहे शिक्षा विभाग ने जून की छुट्टियां शुरू होने के साथ ही सरकारी स्कूलों में किताबें पहुंचानी शुरू कर दी थीं।

बावजूद इसके अभी तक प्राइमरी स्कूलों में तीन कक्षाओं की किताबें नहीं पहुंची हैं। बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो इसके लिए हरियाणा के शिक्षा विभाग ने बच्चों से किताबें लौटाने को कहा है।जिन स्कूलों में किताबों की कमी है वहां पर आसपास के स्कूलों से उपलब्ध करवाई जा रही हैं। इसे लेकर विभाग के उच्च अधिकारी सोमवार व मंगलवार को जिलों में जाकर समीक्षा भी करेंगे।

दयानंद सिहाग जिला शिक्षा अधिकारी, फतेहाबादप्राइमरी स्कूलों में अभी तक कक्षा दूसरी और तीसरी कक्षा की ही किताबें पहुंची हैं। कक्षा पहली, चौथी और पांचवीं की किताबें ही नहीं आई हैं। कक्षा दूसरी व तीसरी की जो किताबें आई हैं वह भी अभी अधूरी ही हैं। विकास टुटेजा, जिला प्रधान राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ

पढ़ें- यूनिफार्म बनवाने में हो रही अवैध वसूली

haryana shiksha vibhag

0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *