कंधे पर जूते लादकर ला रहे गुरुजी

अलीगढ़ : परिषदीय स्कूलों में पहुंचे कटे-फटे और एक पैर के जूते कंपनी को वापस किए जाएंगे। इन जूतों को स्कूलों से मंगाया जा रहा है। स्कूलों से इन जूतों को शिक्षक कंधे पर लादकर बीआरसी पर इकट्ठा कर रहे हैं। लोधा के खंड शिक्षा अधिकारी आलोक प्रताप श्रीवास्तव ने सात मई को विद्यालयों में पहुंचे कटे-फटे और एक पैर के जूतों को बीआरसी पर जमा कराने के आदेश दिए थे। लेकिन संकुल प्रभारी बाढ़ौन, भकरोला, नादा, लोधा व क्वार्सी द्वारा बीआरसी पर एक भी जूता जमा नहीं किया गया। जूता जमा न करने पर कार्रवाई की चेतावनी दी गई थी। चेतावनी के बाद शिक्षकों ने जूते लाने शुरू किए हैं। जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष प्रशांत कुमार शर्मा ने बताया कि शिक्षकों को पढ़ाने के साथ यह काम भी दे दिया गया है। शिक्षक खुद को अपमानित महसूस कर रहा है। इसका विरोध किया जाएगा।जासं,

माध्यमिक विद्यालयों में प्रवेश लेने वालों का रिकॉर्ड लाओ: जूनियर हाईस्कूल के शिक्षकों के लिए फरमान जारी हुआ है। उनसे कहा गया कि कक्षा आठ पास कर माध्यमिक विद्यालयों में प्रवेश लेने वाले बच्चों का रिकार्ड जमा किया जाए। शिक्षकों का कहना है कि विद्यार्थी आठ पास करने के बाद अलग-अलग माध्यमिक विद्यालयों में प्रवेश लेते हैं। कैसे पता लगाया जा सकता है कि किसने कहां प्रवेश लिया है। यह रिकॉर्ड जुटाना आसान नहीं है। कक्षा पांच से छह में प्रवेश करने वालों की भी जानकारी मांगी गई है। जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष प्रशांत शर्मा ने बताया कि शिक्षकों से इस तरह के काम लेने से गुणवत्तापरक शिक्षा कैसे दी जा सकती है।

shiksha mitra

17 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.