गरीबी रेखा से ऊपर वाले बालकों को नि:शुल्क ड्रेस

अशासकीय सहायता प्राप्त विद्यालयों के उन बालकों को भी निश्शुल्क ड्रेस मिलेगी, जो गरीबी रेखा से ऊपर हैं। शिक्षा निदेशक बेसिक की ओर से सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किये गए हैं कि वह कक्षावार बालकों की संख्या तय प्रारूप पर भेजें।

निश्शुल्क व अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार अधिनियम 2009 व नियमावली 2011 के तहत परिषद के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय और अशासकीय सहायता प्राप्त उच्च प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ने वाले गरीबी रेखा के ऊपर के बालकों को निश्शुल्क ड्रेस मुहैया कराया जाना है। प्रति बालक चार सौ रुपये यानी दो सौ रुपये प्रति यूनिफार्म की दर से धन उपलब्ध कराया जाएगा। बजट में प्रावधान के सापेक्ष धनराशि दिलाने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा जा चुका है।

यह भी पढ़ेंः  विवाहित शिक्षिकाओं को अंतर जिला तबादलों में मिलेगी राहत