प्राथमिक शिक्षा में तैयार होती भविष्य की नींव: राज्यपाल

गोरखपुर : राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि जीवन में प्राथमिक शिक्षा का सर्वाधिक महत्व है, क्योंकि बेहतर भविष्य की नींव इसी शिक्षा से तैयार होती है। इसी कारण सरकार का प्राथमिक शिक्षा व्यवस्था सुधारने पर विशेष जोर है। शिक्षकों को भी अपनी जिम्मेदारी समझनी होगी।

महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद के संस्थापक समारोह के समापन में मुख्य अतिथि राज्यपाल ने कहा कि प्राथमिक शिक्षा के दौरान विद्यार्थियों, अभिभावकों और शिक्षकों तीनों को सतर्क रहना चाहिए। पहली सतर्कता स्वास्थ्य को लेकर होनी चाहिए। स्वस्थ बच्चे ही शिक्षा को बेहतर तरीके से आत्मसात कर सकते हैं। स्कूल-कॉलेज में पढ़ने वाली लड़कियां बड़ी संख्या में एनीमिया का शिकार होती हैं। इसकी जांच और इलाज की व्यवस्था होनी चाहिए।

जल संरक्षण का संकल्प दिलाया

राज्यपाल ने विद्यार्थियों को भोजन बर्बाद न करने और जल संरक्षण का संकल्प दिलाया। कहा कि बच्चों को छोटी उम्र से ही यह शिक्षा दी जानी चाहिए कि वह भोजन उतना ही लें जितना खाना हो। पानी उतना ही लें, जितना पीना हो।

शिक्षक समङों अपनी भूमिका

अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि व्यक्ति के कार्य ही यश और अपयश से जुड़ते हैं। ऐसे में गुणवत्ता बनाए रखते हुए अपने यश को बढ़ाने का अधिकार व्यक्ति के पास ही होता है। बच्चों को सीख देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि परिश्रम का कोई विकल्प नहीं। परिश्रम व्यक्ति को अमूल्य बना देता है। उन्होंने शिक्षकों से अपील करते हुए कहा कि वह राष्ट्र निर्माण में अपनी भूमिका समङों और स्वीकारें, क्योंकि शिक्षक मात्र एक व्यक्ति नहीं वरन एक दृष्टि और मार्ग दर्शक है। धरती पर शिक्षक के रूप में जन्म होना मानव जीवन का बड़ा सौभाग्य है। लोककल्याण के लिए राष्ट्रवादी युवा पीढ़ी का सृजन कर शिक्षक जीवन को सार्थक बनाएं।

महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद संस्थापक सप्ताह समारोह के समापन कार्यक्रम में स्मारिका के विषय में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल को जानकारी देते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ’ जागरण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.