12वीं का रिजल्ट 31 जुलाई को घोषित हो जाएगा, फार्मूला को सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी

12वीं की बोर्ड परीक्षा रद होने के बाद सीबीएसई (केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड) और आइसीएसई (इंडियन सर्टिफिकेट आफ सेकेंडरी एजुकेशन) ने गुरुवार को इसके आकलन का फामरूला भी जारी कर दिया। इसके तहत 12वीं का रिजल्ट 10वीं, 11वीं और 12वीं के प्री-बोर्ड तक के प्रदर्शन को आधार बनाकर तैयार किया जाएगा। इनमें 10वीं और 11वीं के 30-30 फीसद और 12वीं के 40 फीसद अंक शामिल किए जाएंगे। 12वीं का रिजल्ट 31 जुलाई को घोषित हो जाएगा।

सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को सीबीएसई और आइसीएसई ने 12वीं के आकलन का यह फामरूला पेश किया। कोर्ट ने भी अपनी सहमति जताई। साथ ही स्थिति सामान्य होने पर परीक्षा के विकल्प देने का निर्देश दिया। इस बीच, कोर्ट ने अभिभावकों की ओर से परीक्षा कराने को लेकर दाखिल याचिका खारिज कर दी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर कोई छात्र घोषित किए गए अंतिम परिणाम में संशोधन कराना चाहे तो ऐसे मामलों में विवाद के समाधान का भी इसमें प्रविधान किया जाना चाहिए। बताया जाए कि वैकल्पिक परीक्षा की समय सारिणी कब घोषित की जाएगी। परीक्षा में सम्मिलित होने वाले छात्रों का 12वीं का अंतिम परिणाम परीक्षा में अर्जित अंकों को ही माना जाएगा।

10वीं, 11वीं और 12वीं के प्री-बोर्ड को आधार बनाकर रिजल्ट तैयार होगा। ं 10वीं और 11वीं के 30-30 फीसद और 12वीं के 40 फीसद अंक होंगे। 12वीं के आकलन में यूनिट टेस्ट, मिड-टर्म और प्री-बोर्ड को आधार बनाया जाएगा। जबकि 11वीं की फाइनल परीक्षा के थ्योरी के और 10वीं के पांच विषयों में से किन्ही तीन विषयों के थ्योरी के प्रदर्शन के औसत को शामिल किया जाएगा। सीबीएसई ने आकलन का आधार तीन कक्षाओं के प्रदर्शन पर रखा है, तो आइसीएसई ने पिछले छह साल के प्रदर्शन को इसमें शामिल किया है।

12वीं के छात्रों के नतीजे तैयार करने के लिए सीबीएसई की नीति और प्रक्रिया की सिफारिश करने के लिए सुप्रीम कोर्ट को धन्यवाद! व्यापक विचार-विमर्श के बाद इस नीति को अपनाया है जो छात्रों के हित में है।

रमेश पोखरियाल निशंक, केंद्रीय शिक्षा मंत्री

’>>इसी फामरूले के आधार पर 10वीं, 11वीं और 12वीं के अंक किए जाएंगे शामिल

’>>स्थिति सामान्य होने पर इच्छुक छात्र परीक्षा दे सकेंगे, तब यह परिणाम अंतिम होगा