छात्रों का भोजन परिषदीय शिक्षकों का पचा देगा खाना, जानिए पूरा क्या है मामला

Basicअलीगढ़, : कक्षा एक से आठवीं तक के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों का मध्याह्न भोजन गुरुजनों के पेट का खाना पचा देगा। ऐसा इसलिए है क्योंकि मध्याह्न भोजन निधि के नाम से संचालित खातों को भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआइ) की शाखाओं में खोलने के लिए शासन की ओर से आदेश किए गए हैं। मगर ग्रामीण अंचल में एसबीआइ की शाखाएं कम व बहुत दूर-दूर हैं। ऐसे में शिक्षक अपने विद्यालय से करीब 20 से 25 किलोमीटर दूर शाखा से आहरण व वितरण कार्य करने को चक्कर लगाएंगे। इसका शिक्षकों ने विराेध भी किया है।

जिले में कुल 2500 विद्यालय हैं
जिले में बेसिक शिक्षा परिषद के 1766 प्राइमरी व 734 जूनियर हाईस्कूल समेत 2500 विद्यालय हैं। खातों को यथावत रखने की मांग करते हुए उत्तरप्रदेशीय जूनियर हाईस्कूल शिक्षक संघ के पदाधिकारियों ने राज्य परियोजना समग्र शिक्षा अभियान उत्तरप्रदेश के महानिदेशक और बीएसए को पत्र भी भेजा है। जिलाध्यक्ष डा. प्रशांत शर्मा ने कहा कि बैंक जाने के लिए अवकाश देय नहीं है। विद्यालय से 25 किलोमीटर दूर कोई शिक्षक जाएगा तो शिक्षण व एमडीएम का काम दोनों प्रभावित होंगे। फिर शिक्षकों को दंडित किया जाएगा। शासन से मांग की है कि जिन बैंकों में खाते संचालित हैं उन्हीं में रहने दिए जाने के आदेश जारी किए जाएं।

यह भी पढ़ेंः  सरकारी में बंपर दाखिले, बंदी करनी पड़ी एडमिशन विंडो