महिला शिक्षिकाएं अब ब्वायज (बालक) कॉलेज में पढ़ा सकेंगी

सूबे के राजकीय हाईस्कूल व इंटर कॉलेजों में पढ़ा रही महिला शिक्षिकाएं अब ब्वायज (बालक) कॉलेज में पढ़ा सकेंगी। माध्यमिक शिक्षा विभाग की ओर से बुधवार को वार्षिक स्थानांतरण नीति 2019-20 जारी कर दी गई। यह पहला मौका है जब महिलाओं को पुरुष संवर्ग के विद्यालयों में पढ़ाने का विकल्प दिया जा रहा है। वेबसाइट पर स्कूल व विषयवार कितने शिक्षकों के पद कहां रिक्त हैं इसका ब्योरा 14 मई से 17 मई तक जारी होगा। इसके बाद राजकीय इंटर कॉलेज व हाईस्कूल में एलटी ग्रेड शिक्षक व प्रवक्ता तबादले के लिए 17 मई से लेकर 23 मई तक ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। 31 मई को ऑनलाइन स्थानांतरण सूची जारी होगी। शिक्षक वेबसाइट www.upsecgtt.upsdc.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। पुरुष व महिला दोनों शिक्षक अधिकतम पांच विकल्प स्थानांतरण के लिए दे सकेंगे।

माध्यमिक शिक्षा निदेशक विनय कुमार पांडेय ने बताया कि राजकीय हाईस्कूल व इंटर कॉलेजों में महिला शिक्षिकाओं को अब पुरुष संवर्ग के स्कूलों में भी स्थानांतरण की सुविधा दी जा रही है। मगर पुरुष सिर्फ अपने संवर्ग के स्कूलों में ही तबादले के लिए आवेदन कर सकेंगे। अभी कुल 776 राजकीय इंटर कॉलेजों में से 363 गल्र्स इंटर कॉलेज व 413 ब्वायज इंटर कॉलेज है। अब महिला इन सभी 776 इंटर कॉलेजों में अपने स्थानांतरण के लिए पांच विकल्प तलाश सकेगी। इसी तरह 1486 राजकीय हाईस्कूल में करीब 743 गल्र्स हाईस्कूल व 743 ब्वायज हाईस्कूल हैं। इसमें भी वह अब सभी में पढ़ाने की हकदार होंगी।

डायट में तैनात टीचर भी कर सकेंगे आवेदन: जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान (डायट) व राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद (एससीईआरटी) से संबद्ध संस्था में कार्यरत शिक्षक भी पहली बार किसी भी राजकीय इंटर कॉलेज में स्थानांतरण के लिए आवेदन कर सकेंगे। यहां कार्यरत शिक्षक तो राजकीय इंटर कॉलेज में जा सकेंगे लेकिन डायट व एसीईआरटी में राजकीय इंटर कॉलेज के शिक्षकों का ट्रांसफर नहीं होगा।

तो टीचर नहीं होगा रिलीव: ऐसे राजकीय हाईस्कूल व इंटर कॉलेज जहां पर दो शिक्षक या उससे कम हैं तो वहां के शिक्षक को तभी स्थानांतरित किया जाएगा जब वहां कोई दूसरा टीचर ज्वाइन कर लेगा। यानी जब प्रतिस्थानी शिक्षक आ जाएगा तभी वह कार्यमुक्त होगा।

14 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.