डीबीटी ऐप में फीडिंग सुस्त, बच्चों को सुविधाएं मिलने में विलंब

prerna aadhaar dbtफतेहपुर। डायरेक्ट बेनीफीट ट्रांसफर (डीबीटी) एप में परिषदीय विद्यालयों के बच्चों का ब्योरा फीडिंग का काम सुस्त चल रहा है। हालात ये ही रहे तो इस बार ठंड में बच्चे बिना स्वेटर व यूनिफार्म के ठंड से कंपाते नजर आएंगे।

पिछले शैक्षिक सत्र तक बच्चों को स्कूल की तरफ से यूनिफार्म, जूता, मोजा, बैग, स्वेटर आदि सामग्री खरीद कर दी जाती थी। इसमें यूनिफार्म और स्वेटर का बजट स्कूल के खाते में आता रहा है और शिक्षक क्रय कर बच्चों का उपलब्ध कराते थे।

वहीं जूता, मोजा, बैग सीधे जिले से क्रय कर भेजे जाते थे। बेसिक शिक्षा विभाग ने चालू सत्र में व्यवस्था परिवर्तित करते हुए बच्चों के अभिभावकों के खाते में नगद धनराशि भेजने की व्यवस्था को लागू किया है।
इसके लिए विभाग ने डीबीटी एप बनाया है। इसमें शत प्रतिशत बच्चों के आधार, अभिभावकों के बैंक खाते फीड किए जाने हैं। ताकि सीधा पैसा उनके खाते में भेजा जा सके। शिक्षा विभाग ने शिक्षकों को बच्चों का ब्योरा फीड करने की जिम्मेदारी दी है।
हालात ये हैं कि एक पखवारे में दो लाख 67 हजार 991 बच्चों में सिर्फ 60 हजार का ब्योरा फीड हो सका है। जबकि डाटा फीडिंग की अंतिम तिथि पांच अक्तूबर है। ऐसे में पूरा ब्योरा फीड होता नहीं दिखाई दे रहा है। इस स्थिति में इस बार बच्चे ठंड में स्वेटर और जूते मोजे के अभाव में कांपते ही नजर आएंगे।
जिला समन्वयक सामुदायिक शिक्षा अखिलेश सिंह ने बताया कि 15 अक्तूबर तक बच्चों के अभिभावकों के खाते में धनराशि भेजने की तैयारी है। अभी तक की स्थिति में बच्चों का ब्योरा फीड करने में हथगाम ब्लाक पहले नंबर पर है, जबकि असोथर दूसरे नंबर पर चल रहा है। अन्य सभी ब्लाक अभी तक शुरुआती स्थिति में चल रहे हैं।
समय से डीबीटी एप में बच्चों के डाटा फीडिंग पूरा न कराने वाले बीईओ के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसलिए सभी बीईओ अपनी देखरेख में समय से फीडिंग का काम पूरा कराएं, जिससे समय से बच्चों को मिलने वाली सुविधाएं हासिल हो सकें। – संजय कुशवाहा, बीएसए

यह भी पढ़ेंः  तबादले के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 2 जुलाई से बढ़ाकर 5 जुलाई करने की मांग की