हर जिले में डीएम-एसपी व शिक्षा विभाग के अफसरों को UPTET 2019 की जिम्मेदारी सौंपी

प्रयागराज: उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपी टीईटी) 2019 सभी जिलों में कराई जाएगी। हर जिले में डीएम-एसपी व शिक्षा विभाग के अफसरों को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा रेणुका कुमार ने निर्देश दिया है कि 22 दिसंबर को होनी वाली परीक्षा सकुशल व नकलविहीन कराने के लिए सभी तैयारियों में जुट जाएं। जिला स्तरीय समिति चार दिसंबर तक केंद्रों की सूची परीक्षा संस्था को भेजे। इसमें राजकीय, सहायताप्राप्त माध्यमिक व डिग्री कॉलेजों को ही वरीयता दी जाए।

यूपी टीईटी के लिए ऑनलाइन आवेदन लेने का कार्य पूरा हो चुका है, 16.45 लाख अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। मिले आवेदनों को जिलावार भेज दिया गया है, ताकि वहां परीक्षा केंद्रों का निर्धारण हो सके। हर परीक्षा केंद्र पर कम से कम 500 अभ्यर्थी आवंटित किए जाएंगे। साथ ही केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरा व अन्य सुविधाएं होना अनिवार्य है। केंद्रों पर 200 गज की दूरी में धारा 144 लागू की जाएगी। वहां पर संवेदनशीलता के लिहाज से परीक्षा से संबंधित लोगों को छोड़कर किसी को प्रवेश नहीं मिलेगा।

ये भी पढ़ें : UPTET Exam में 10 प्रतिशत सवर्ण आरक्षण का आधार नहीं

स्मार्ट फोन सभी के लिए प्रतिबंधित : परीक्षा केंद्र पर केंद्र व्यवस्थापक, नामित पर्यवेक्षक व स्टैटिक मजिस्ट्रेट को भी स्मार्ट फोन लेकर जाने की अनुमति नहीं है। ये तीनों अधिकारी बिना कैमरा वाला वह फोन जो स्मार्ट नहीं है लेकर जा सकते हैं। ऐसे ही परीक्षार्थी केंद्र पर केवल प्रवेशपत्र काला बाल प्वाइंट पेन लेकर ही प्रवेश कर सकेंगे। अन्य किसी तरह की कोई सामग्री लाने की अनुमति नहीं है। कक्ष निरीक्षक व कर्मचारी भी कोई सामग्री लेकर प्रवेश नहीं कर सकेंगे। हर केंद्र पर पर्याप्त पुलिस बल तैनात रहेगा।

प्रश्नपत्र खोलने की वीडियो रिकॉर्डिग : प्रश्नपत्र खोले जाने के समय वीडियो रिकॉर्डिग कराने का आदेश है।

सभी जिला मुख्यालयों पर परीक्षा से तीन दिन पहले प्रश्नपत्र व ओएमआर शीट भेजी जाएंगी। डीएम की ओर से नामित मजिस्ट्रेट, डीआइओएस व वरिष्ठ कोषाधिकारी प्रश्नपत्रों को डबल लॉक में रखवाएंगे। परीक्षा वाले दिन कोषागार से प्रश्नपत्र लेकर केंद्रों तक पहुंचाने का जिम्मा भी मजिस्ट्रेट व डीआइओएस का होगा। उनके साथ पुलिस स्कार्ट भी रहेगी। प्रत्येक पाली के लिए अलग स्टैटिक मजिस्ट्रेट लगाया जाए, ताकि जो परीक्षा हो उसी का प्रश्नपत्र पहुंचे। परीक्षा दो पालियों में हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.