यूपी बोर्ड परीक्षा में नकल के लिए कुख्यात जिले बने चुनौती

यूपी बोर्ड परीक्षा में हर जिला और केंद्रों की अपनी अलग पहचान है। पिछले वर्षो के इम्तिहान में जिस परीक्षा केंद्र ने जैसा योगदान दिया, उसी के अनुरूप उसे चिह्न्ति किया जाता है। मसलन, संवेदनशील, अति संवेदनशील केंद्रों की गणना उनके प्रदर्शन के आधार पर बोर्ड की परीक्षा समिति करती है। हालांकि किसी भी जिले को केंद्रों की तर्ज पर नहीं आंका जाता लेकिन, सामूहिक नकल, पेपर आउट या फिर अन्य घटनाएं बार-बार आने से उन जिलों को लेकर विशेष एहतियात बरतने के निर्देश हैं।

अहम बात यह है कि इस बार जिन जिलों में परीक्षा को लेकर प्रशासन सतर्क किया गया, असली चुनौती उन्हीं जिलों से मिल रही है। इसमें प्रदेश के पश्चिम के जिले के काफी पीछे छूट गए हैं, जबकि पूरब के मऊ, गाजीपुर, बलिया, कुशीनगर, बस्ती और कौशांबी आदि में गड़बड़ियां होने की शिकायतें निरंतर मिल रही हैं। मऊ में घोषित तौर पर पेपर आउट हो चुका है तो बलिया व अन्य जगहों पर इसकी जांच चल रही है, ऐसे ही कौशांबी में पहले कॉपी बदलने का सामने आया और अब पेपर आउट का प्रकरण सतह पर है। सवाल यह है कि परीक्षा के हाईटेक इंतजाम इन जिलों में सफल क्यों नहीं हो पा रहे हैं।

4.32 लाख ने छोड़ा इम्तिहान : यूपी बोर्ड परीक्षा में हर दिन इम्तिहान छोड़ने वालों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। बोर्ड मुख्यालय के अनुसार बुधवार को शाम सात बजे तक हाईस्कूल में 159 व इंटर में 2968 परीक्षार्थियों इम्तिहान छोड़ने की सूचना मिली है। अब उनकी कुल संख्या बढ़कर 4,32,578 हो गई है।

6914 परीक्षार्थियों ने छोड़ी अंग्रेजी की परीक्षा : बुधवार को हाईस्कूल में सिलाई विषय में 34 विद्यार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी। दूसरी पॉली में वाणिज्य विषय में 21 छात्र-छात्रओं ने परीक्षा छोड़ी। दूसरी पॉली में इंटरमीडिएट में अंग्रेजी में 6914 विद्यार्थियों ने किनारा कर लिया। इसमें 5394 छात्र और 1520 छात्रएं शामिल हैं।

दो केंद्र व्यवस्थापक सहित 17 पर एफआइआर

हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा में मंगलवार को दूसरी पाली में 12 फर्जी परीक्षार्थी और सामने आए हैं। वहीं, दो केंद्र व्यवस्थापक और तीन अन्य सहित कुल 17 पर एफआइआर दर्ज कराई गई है। अब तक 112 पर मुकदमा लिखाया जा चुका है। बुधवार का हाईस्कूल में एक बालक, इंटर में 15 बालक व एक बालिका सहित 17 नकलची प्रदेश भर में पकड़े गए हैं। अभी तक 239 नकलची पकड़े जा चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.