69000 शिक्षक भर्ती मामले सुनबाई का कोर्ट अपडेट सीतापुर टीम दिनाँक – 28/02/2020

सीतापुर टीम, दिनाँक – 28/02/2020*

*प्रदेश के सभी शिक्षामित्र साथियों आपको अवगत कराना है,कि आज कोर्ट रूम में शिक्षामित्रों के पक्ष की तरफ से सिर्फ दो लोग उपस्थित रहे,एक मैं स्वयं गुड्डू सिंह तथा राम शरण मौर्य बहराइच टीम। साथियों अपने केस की सुनवाई 2.25 बजे से शुरू हुई ।*

केस की शुरुवात डॉ एल पी मिश्रा जी ने अपने कल के बचे हुए शेष आर्गुमेंट से की। मिश्रा जी ने पॉइंट टू पॉइंट जबरदस्त बहस की। जिसकी बदौलत विरोधियों के खेमे में भी दहशत का माहौल है।
*साथियों आज एल पी मिश्रा जी की बहस 3.45 बजे रिटेन सबमिसन जमा करने के साथ खत्म हुई।
-इसके पश्चात सीतापुर टीम के टॉप मोस्ट सीनियर अधिवक्ता श्री एच जी एस परिहार जी खड़े हुए ,तो उनसे माननीय पंकज जायसवाल जी ने कहा परिहार जी आप का भी सेम आर्गुमेंट है क्या ,इस पर परिहार जी ने कहा कि नही मेरी आर्गुमेंट टोटली डिफ्रेंट है और मुझे लगभग डेढ़ घण्टे तक का समय चाहिए। इस पर माननीय कोर्ट ने सहमति जताते हुए ,अपने केस की सुनवाई दिनाँक 3 मार्च 2020 को 2.15 बजे से तय की । इस पर विपक्ष की तरफ से मेहा रश्मि मेम ने केस को आफ्टर फ्रेस सुने जाने को कहा पर माननीय कोर्ट ने उनकी इस बात को नकारते हुए 2.15 बजे से सिर्फ और सिर्फ परिहार जी को ही फुल टाइम सुनने को कहा।*

अब साथियों आने वाले मंगलवार को 2.15 बजे से *श्री एच जी एस परिहार जी (वर्तमान अध्यक्ष अवध बार एसोसिएशन) का आर्गुमेंट शुरू होगा। जिनका कोर्ट में खड़े होना ही हमारी जीत तय कर देगा। और उनका डेढ़ घण्टे का आर्गुमेंट विरोधियों के खेमे में पूर्ण रूप से मातम लाने का कार्य करेगा।*

साथियों आप सभी लोग बिल्कुल परेशान न हो जीत शिक्षामित्रों की ही होगी और हमारे सभी टेट पास शिक्षामित्र साथी अप्रैल माह में अध्यापक जरूर बनेंगे।

*नोट* – कल कोर्ट में हुए कुकृत्य की वजह से सारे शिक्षामित्र समाज की बदनामी करवाई गई । और सबसे अहम बात तो यह है,कि इसके पीछे विरोधी नही अपने ही पक्ष के जयचंदों का हाथ था। जो कभी नही चाहते कि अपना यह केस जीता जाये। केस रिजर्व होते ही उनके चेहरे से नकाब हटेगा। अभी सभी टीमें मौन है,क्योकि 22 हजार टेट पास शिक्षामित्रों की जीत की जिम्मेदारी हमारे कंधों पे है।

सीतापुर टीम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.