शिक्षामित्रों की नियुक्ति पर कोर्ट ने जवाब तलब

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ऐसे शिक्षामित्रों को 72825 सहायक अध्यापक भर्ती के लिए पद पर नियुक्ति देने के मामले में प्रदेश सरकार से जवाब मांगा है जिन्होंने बीएड और टीईटी उत्तीर्ण किया था तथा प्रशिक्षु शिक्षक का नियुक्ति पत्र भी प्राप्त कर चुके थे। मगर, मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित होने के कारण उन्होंने स्कूल ज्वाइन नहीं किया। अरविंद कुमार और 27 अन्य शिक्षामित्रों की याचिका पर न्यायमूर्ति पी के एस बघेल सुनवाई कर रहे हैं। याची के अधिवक्ता का कहना था कि याचीगण टीईटी उत्तीर्ण है और 72825 सहायक शिक्षक भर्ती के लिए आवेदन किया था। उनको प्रशिक्षु सहायक आद्यापक के पद पर नियुक्ति पत्र भी जारी कर दिया गया। छह माह के प्रशिक्षण के बाद उनको सहायक अध्यापक के पद पर मौलिक नियुक्ति दी जानी थी, इस दौरान shiksha mitra होने के कारण उनका समायोजन सहायक अध्यापक के पद पर हो गया। चूंकि 72825 सहायक शिक्षक भर्ती का मामला शिव कुमार पाठक केस में सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन था इसलिए याचीगण ने प्रशिक्षु अध्यापक के पद पर ज्वाइन नहीं किया।

25 जुलाई 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षामित्रों का समायोजन रद कर दिया है। शिव कुमार पाठक केस का निस्तारण करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि 72825 सहायक शिक्षक भर्ती में करीब 7000 पद अभी रिक्त हैं। याचीगण का कहना था कि चूंकि वह चयनित प्रशिक्षु शिक्षक हैं और 7000 पद अभी भी रिक्त हैं इसलिए उनको रिक्त पदों पर नियुक्ति दी जाए। कोर्ट ने प्रदेश सरकार और बेसिक शिक्षा विभाग से पूछा है कि क्यों नहीं याचीगण की रिक्त पदों पर नियुक्ति की जानी चाहिए?

सितंबर से डायट में टीईटी की कक्षाएं चलेंगी: इलाहाबाद : उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपी टीईटी का result लगातार गिर रहा है। इसमें सुधार लाने के लिए अब जिला शिक्षा और प्रशिक्षण संस्थान यानी डाइट मुख्यालय पर टी ई टी 2017 की तैयारी कराने के लिए कक्षाएं चलाने का निर्देश हुआ है। हर डायट पर कम से कम घंटे का मार्गदर्शी कार्यक्रम एक सितंबर से अनवरत चलेगा। जिन डायट में अभ्यर्थियों की संख्या अधिक होगी, वहां बीआरसी केंद्र पर भी यह कक्षाएं चलाने को कहा गया है। स्टेट काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग के निदेशक डा. सर्वेद्र विक्रम बहादुर सिंह ने सभी डायट प्राचार्यो को निर्देश दिया है कि वह यूपी टीईटी 2017 के अभ्यर्थियों के लिए डायट में तैयारी कराने को मार्गदर्शी कक्षाएं चलाएं। इनका संचालन एक सितंबर से होगा।

यूपी टीईटी की कोचिंग हर डाइट पर दी जाएगी: इसमें प्राथमिक और उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के प्रश्न पत्र में पूछे जाने वाले विषय खंडों से संबंधित विषय विशेषज्ञ से डायट में कम से कम एक घंटे का यूपी टीईटी अभिमुखीकरण कार्यक्रम संचालित होगा। इसमें परीक्षा में प्रतिभाग करने के इच्छुक बीटीसी अर्हताधारी पात्र अभ्यर्थियों ने टी.ई.टी. की तैयारी में सहायता के लिए विभिन्न विषय विशेषज्ञ  के माध्यम से अभिमुखीकरण कराया जाए। यह भी निर्देश है कि जिन जिलों में अभ्यर्थियों की संख्या अधिक हो वहां पर बीआरसी केंद्र पर भी यह कार्यक्रम चलाने की व्यवस्था की जाए। निदेशक ने यह भी निर्देश दिया है कि इस कार्यक्रम के कारण डीएलएड प्रशिक्षण की नियमित कक्षाएं बाधित नहीं होनी चाहिए।

अभ्यर्थियों को तैयारी टीईटी 2017 के पाठ्यक्रम के अनुरूप कराई जाए। इसके लिए पहले की परीक्षा के प्रश्न पत्र को नमूनेके तौर पर प्रयोग किया जाए। यही नहीं प्रत्येक प्रश्नखंड के आधार पर एक सप्ताह तैयारी करने के बाद अभ्यर्थियों का टेस्ट भी लिया जाए। टेस्ट के आधार पर कठिनाई वाले स्थलों पर अतिरिक्त बल दिया जाए। यह कार्यक्रम अभ्यर्थियों के लिए पूरी तरह से ऐच्छिक व निश्शुल्क व अनावासीय होगा। ज्ञात हो कि टीईटी 2017 15 अक्टूबर को परीक्षा प्रस्तावित है। पिछले दिनों शिक्षामित्रों ने सरकार से अनुरोध किया था कि उनकी तैयारी करवाने का भी प्रबंध किया जाए। उनकी मांग को देखते हुए सभी अभ्यर्थियों के लिए शासन के निर्देश पर एससीईआरटी ने डायटों को आदेश दिया है।bed tet pass shiksha mitra

93 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.