बीएड पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए सीधे प्रवेश के लिए आठ नवंबर से काउंसलि‍ंग होगी शुरू

B-edलखनऊ: बीएड पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए पूल काउंसलि‍ंग के बाद भी करीब एक लाख 15 हजार सीटें खाली हैं। अब इन पर सीधे प्रवेश के लिए आठ नवंबर से काउंसलि‍ंग शुरू होगी। अभ्यर्थी को 750 रुपये काउंसलि‍ंग शुल्क जमा करना होगा। महाविद्यालय लखनऊ विश्वविद्यालय की वेबसाइट से अभ्यर्थी के विवरण को सत्यापित करके नियमानुसार प्रवेश देंगे।

संयुक्त प्रवेश परीक्षा बीएड-2021 की राज्य समन्वयक प्रो. अमिता बाजपेयी ने बताया कि काउंसलि‍ंग का यह तीसरा चक्र महाविद्यालय स्तर पर केवल बीएड काउंसलि‍ंग पोर्टल के माध्यम से ही पूरा किया जाएगा। इसमें केवल वैध स्टेट-रैंक धारक अभ्यर्थी ही शामिल हो सकते हैं। उन्होंने बताया कि काउंसलि‍ंग में उन्हें प्रवेश का मौका मिलेगा, जो अब तक मुख्य काउंसलि‍ंग में शामिल न हुए हों। इसके अलावा मुख्य काउंसलि‍ंग या पूल काउंसलि‍ंग में शामिल होने के बाद भी उन्हें कोई सीट न आवंटित हो सकी है। महाविद्यालय लखनऊ विश्वविद्यालय की वेबसाइट से अभ्यर्थी के विवरण को सत्यापित करके नियमानुसार प्रवेश देंगे। शुल्क महाविद्यालय स्तर पर ही जमा किया जाएगा। अभ्यर्थी का सत्यापन जेईई बीएड काउंसलि‍ंग पोर्टल पर पंजीकृत और वैकल्पिक मोबाइल नंबर पर भेजे गए ओटीपी को दर्ज करके करना होगा।

यह भी पढ़ेंः  UPCET 2021 Result @upcet.nta.nic.in

अल्पसंख्यक कालेजों के लिए पहली बार अलग काउसंलि‍ंग : लखनऊ विश्वविद्यालय अल्पसंख्यक कालेजों में बीएड पाठ्यक्रम में दाखिले के लिए पहली बार अलग काउंसलि‍ंग कराएगा। इसके लिए 16 नवंबर से प्रक्रिया शुरू होगी। यह दाखिले का आखिरी चरण होगा। प्रो. अमिता बाजपेयी ने बताया कि कई बार अल्पसंख्यक कालेज अपनी स्वयं की परीक्षा आयोजित न करके संयुक्त प्रवेश परीक्षा में शामिल अभ्यर्थियों को वरीयता सूची से चयन करके अपनी प्रक्रिया पूरी करते हैं। बाद में प्रवेश वाले छात्रों की सूची सत्यापित करने के लिए भेजते हैं। इस प्रक्रिया में काफी समय लगता है। इसलिए इसे सरल बनाने के लिए अलग से काउंसलि‍ंग कराई जाएगी। यदि अल्पसंख्यक संस्थान चाहें तो इस काउंसलि‍ंग से सीटें भर सकते हैं। उनके लिए यह अनिवार्य नहीं है

यह भी पढ़ेंः  डेढ़ सौ राजकीय शिक्षिकाओं की पदस्थापना कर दीवाली का तोहफा

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.