शिक्षकों की रिटायरमेंट उम्र 62 वर्ष से बढ़ाकर 65 वर्ष करने पर विचार

कुलपति सम्मेलन में उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने बताया कि शिक्षकों की रिटायरमेंट उम्र 62 वर्ष से बढ़ाकर 65 वर्ष किए जाने और कुलपतियों का कार्यकाल 3 वर्ष से बढ़ाकर 5 वर्ष किए जाने पर विचार किया जाएगा। सम्मेलन में सभी कुलपति इन दोनों प्रस्तावों पर सहमत थे लेकिन इस मामले में फैसला मुख्यमंत्री व राज्यपाल की सहमति के बाद होगा।

आनलाइन होगी मार्कशीट : अगले शैक्षिक सत्र से सभी मार्कशीट आनलाइन उपलब्ध कराई जाएगी। संबद्धता आनलाइन जारी किए जाने की प्रक्रिया निर्धारित की जाएगी, जिससे इस मामले में विसंगतियों की शिकायतें दूर की जा सकें। डॉ. शर्मा ने बताया कि सम्मेलन में कुल 36 बिन्दुओं पर संकल्प पारित किए गए हैं। इसमें महाविद्यालयों की संबद्धता की शर्तों में हर फैकल्टी में कम्प्यूटर लैब व ई-लाइब्रेरी की स्थापना अनिवार्य किए जाने की शर्त भी जोड़ने का फैसला हुआ है।

10 जुलाई से खुलेंगे विश्वविद्यालय: आगामी शैक्षिक सत्र को नियमित करते हुए सभी विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों को 10 जुलाई 2018 के पहले खोला जाएगा और 15 जून तक सभी परीक्षाफल घोषित किए जाएंगे। शैक्षिक कैलेंडर का निर्धारण शीघ्र कर दिया जाएगा। सम्मेलन में नकल विहीन परीक्षा के लिए नियमावली लागू कर प्रभावी कार्रवाई करने तथा स्व परीक्षा केंद्र न रखने का फैसला किया गया। यह निर्णय भी लिया गया कि परीक्षा की सीसीटीवी से निगरानी कराई जाएगी।

कौशल विकास का कोर्स होगा अनिवार्य: उन्होंने बताया कि छात्रों में रोजगारपरक अभिरुचि व दक्षता पैदा करने के लिए तीन वर्षीय कोर्सेज में 6 माह का स्किल डेवलपमेंट (कौशल विकास) का कोर्स भी शामिल करने का निर्णय लिया गया। प्रदेश में kaushal vikaas vishvavidyaalaya की स्थापना पर विचार के लिए एक तीन सदस्यीय कमेटी गठित करने का निर्णय लिया गया। इसमें मथुरा के Veterinary University के Vice Chancellor, Dr. Abdul Kalam Technical University, Lucknow के कुलपति व सचिव प्राविधिक शिक्षा को सदस्य बनाया जाएगा।

80 Shares

One thought on “शिक्षकों की रिटायरमेंट उम्र 62 वर्ष से बढ़ाकर 65 वर्ष करने पर विचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.