कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष बीपी मिश्रा और महासचिव शशि कुमार मिश्रा ने प्रदेश में एस्मा लगाए जाने की निंदा की

लखनऊ। कर्मचारी शिक्षक संयुक्त मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष बीपी मिश्रा और महासचिव शशि कुमार मिश्रा ने प्रदेश में एस्मा लगाए जाने की निंदा की है। उन्होंने कहा कि यह आदेश कर्मचारियों के अधिकारों का हनन करने वाला है। प्रदेश का कर्मचारी पहले से ही लगातार छला जा रहा है। अब प्रतीकात्मक आंदोलन के बाद एस्मा लगाना पूरी तरह से सरकार की संबेदनहीनता का परिचायक है। बीपी मिश्र ने कहा कि सरकार कर्मचारियों की समस्याओं पर ध्यान ना देते हुए उसे आंदोलन के लिए मजबूर करती है। लोकतंत्र में हर व्यक्ति को अपनी बात रखने का अधिकार है। ऐसे समय में जबकि कर्मचारी जान जोखिम में डालकर कार्य कर रहा है तो उन्हें प्रोत्साहित करना चाहिए ना कि डराया जाना चाहिए। शशि मिश्र ने कहा कि सरकार ने महंगाई भत्ते की किस्तों को रोककर कर्मचारियों को दो जून की रोटी खाना भी मुश्किल कर दिया है। राज्य सरकार एस्मा लगाकर उसको पीड़ा को सुनने के बजाय उसकी जबान भी बंद कर रही है। अमीन संघ ने भी जताया विरोध : राजस्व संग्रह सीजनल अमीन कर्मचारी सेवक वेलफेयर एसोसिएशन ने भी सरकार द्वारा एस्मा लगाने का विरोध किया है। प्रदेश अध्यक्ष बीरेंद्र कुमार ने बताया कि अब तक धरना, प्रदर्शन, अनशन, देहदान, नेत्रदान, जल सत्याग्रह वे जल समाधि का भी प्रयास कर चुके हैं। हम अपनी मांग को पूरा करने के लिए एस्मा के तहत जेल भी जाने को तैयार हैं। सरकार का दमनात्मक रवैया हम बर्दाश्त नहीं करेंगे।