आधार कार्ड बनाने में भ्रष्टाचार से संबंधित शिकायत मिली

Basicबलिया : शिक्षा क्षेत्र हनुमानगंज के प्राथमिक विद्यालय मे तैनात सहायक अध्यापक सत्येंद्र यादव के खिलाफ आधार कार्ड बनाने में भ्रष्टाचार से संबंधित शिकायत मिली है। यह शिकायत कोई और नहीं, बल्कि उनके ही प्रधानाध्यापक ने ही की है। इस मामले में बेसिक शिक्षा अधिकारी शिव नारायण सिंह ने खंड शिक्षा अधिकारी बेलहरी को जांच कर तीन दिनों में रिपोर्ट देने को निर्देशित किया है।

प्रधानाध्यापक मनोज राय ने अगस्त में दिए शिकायती पत्र में आरोप लगाया है कि सत्येंद्र यादव पहले विद्यालय के प्रभारी थे। उसी समय से वह बिना विभागीय आदेश के स्कूल के उपस्थिति रजिस्टर में अपना हस्ताक्षर भी बनाते हैं और बीआरसी में बैठकर आधार कार्ड भी बनाते हैं। एक ही व्यक्ति दो स्थानों पर एक साथ उपस्थित रहते हैं। उन्होंने खंड शिक्षा अधिकारी हनुमानगंज पर भी संबंधित सहायक अध्यापक को बचाने का आरोप लगाया है। प्रधानाध्यापक ने अपने पत्र में कहा है कि 10 दिन पहले मैंने अपना चार्ज अध्यापक सत्येंद्र यादव से ले लिया है, लेकिन सभी तरह के चार्ज भी वह अभी तक नहीं दिए हैं। हर जगह मानक से ज्यादा वसूली आधार कार्ड बनाने के लिए जनपद में भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (यूआइडीएआइ) और बेसिक शिक्षा विभाग की संयुक्त पहल से जनपद में सभी परिषदीय विद्यालयों के बच्चों का आधार कार्ड बनाने के लिए कुल 33 बायोमेट्रिक उपकरण दिए गए जो आपरेटर की परीक्षा पास किए। इसमें वर्तमान समय में कुल 31 उपकरण काम कर रहे हैं। हर बीआरसी केंद्र पर दो आपरेटर आधारकार्ड बना रहे हैं। ये आपरेटर बेसिक शिक्षा विभाग के सहायक अध्यापक, अनुदेशक आदि हैं। अभी के समय में जगह-जगह से आधार कार्ड बनाने में अवैध वसूली की शिकायतें आ रहीं हैं। खंड शिक्षा अधिकारियों से शिकायत के बाद भी कोई सुधार होते नहीं दिख रहा है। आधार कार्ड बनाने के लिए निर्धारित शुल्क

यह भी पढ़ेंः  शिक्षकों के अंतर जिला तबादलों के लिए ऑनलाइन आवेदन की आखिरी तारीख बढ़ाकर अब 28 जनवरी कर दी

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण
(यूआइडीएआइ) की ओर से आधार के लिए शुल्क निर्धारित किया गया है। आधार नामांकन निश्शुल्क है। अनिवार्य बायोमेट्रिक अपडेट (एमबीयू) भी निश्शुल्क हैं। जनसांख्यिकीय अपडेट या बिना बायोमेट्रिक अपेडेट के लिए शुल्क 100 रुपये है। जनसांख्यिकीय अपडेट के लिए शुल्क 50 रुपये है। ई-आधार डाउनलोड और रंगीन प्रिट के लिए शुल्क 30 रुपये निर्धारित हैं।

निर्धारित शुल्क से ज्यादा धन लेने वाले आपरेटरों की शिकायत मिलने पर सख्त कार्रवाई होगी। यह व्यवस्था प्रमुख रूप से बच्चों का आधार कार्ड बनाने के लिए किया गया है। इसका गलत उपयोग करने वालों की जांच कर कार्रवाई की जाएगी। संबंधित सहायक अध्यापक के विरुद्ध शिकायत मिलने के बाद तीन दिन में रिपोर्ट मांगी गई है।

यह भी पढ़ेंः  नई दिल्ली नगर पालिका परिषद के शिक्षकों को वेतन न मिलने पर दिल्ली उच्च न्यायालय को लिखा पत्र

-शिवनारायण सिंह, बीएसए