रसोइया की पाककला प्रतियोगिता में जज रहेंगे बच्चे

प्रतापगढ़: शासन ने सूबे के परिषदीय स्कूलों में भोजन बनाने वाली रसोइया के बीच पाककला प्रतियोगिता कराने का निर्णय लिया है। प्राइमरी एवं पूर्व माध्यमिक स्कूलों में भोजन बनाने वाली रसोइया इसमें भाग ले सकेंगी। इसमें पौष्टिक एवं स्वादिष्ट भोजन बनाने वाली 30 रसोइया का चयन किया जाएगा। इन्हीं के बीच पाककला प्रतियोगिता कराई जाएगी। खास बात यह होगी प्रतियोगिता में जज की भूमिका में स्कूली बच्चे रहेंगे। उनके निर्णय ही माने जाएंगे। रसोइया का सहमति पत्र 31 दिसंबर तक लिया जाएगा। इसके बाद जनपद स्तर पर उनकी स्क्रीनिंग कराने के बाद प्रतियोगिता कराई जाएगी।

भारत सरकार के निर्देश पर मध्याह्न् भोजन प्राधिकरण लखनऊ के निदेशक ने रसोइया की पाककला प्रतियोगिता आयोजित कराए जाने का निर्देश दिया है। इस योजना के अंतर्गत परिषदीय स्कूलों में कार्यरत रसोइयों को पुरस्कृत कर उनका उत्साहवर्धन किया जाएगा। प्रतापगढ़ जिले में कुल 7032 रसोइया कार्यरत हैं। इसका मुख्य उद्देश्य सामुदायिक सहभागिता को बढ़ावा देना है। भोजन को अति पौष्टिक एवं स्वादिष्ट बनाने के लिए शाक भाजी का उपयुक्त उपयोग और पकाने की विधि की समझ का आकलन भी किया जाएगा। इसके लिए प्रत्येक जनपद में 30 ऐसे रसोइया, जो विद्यालयों में मध्याह्न् भोजन तैयार करने में सिद्धहस्त हैं, चयनित की जाएंगी। इन्हीं के बीच पाककला की प्रतियोगिता आयोजित होगी। इस कार्य के लिए जनपद स्तर पर विद्यालयों में कार्यरत रसोइया का सहमति पत्र विकास खंड स्तर पर एकत्रित कर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में उपलब्ध कराए जाएंगे। जनपद स्तर पर स्क्रीनिंग कर प्रतियोगिता के लिए उन्हें चयनित किया जाएगा। प्रत्येक विकास खंड से बराबर की संख्या में रसोइया को प्रतिभाग कराया जाएगा। प्रतियोगिता में स्थानीय स्तर पर ग्रहण किए जाने वाले भोजन को सम्मिलित किया जाएगा। इसमें स्थानीय स्तर पर सुगमता से प्राप्त होने वाले अनाज, दाल, मौसमी सब्जियां व अन्य पदार्थ का समावेश होगा। बीएसए अशोक कुमार सिंह ने बताया कि यह प्रतियोगिता कुल 65 अंक की होगी। प्रतियोगिता के बाद जनप्रतिनिधियों, डीएम व समाज सेवक को आमंत्रित कर उनके द्वारा विजेताओं को पुरस्कार का वितरण कराया जाएगा।

पाककला प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने के लिए रसोइयों की स्क्रीनिंग के आधार ¨बदु इस प्रकार हैं। रसोइया को कम से कम दो वर्षों का कार्य करने का अनुभव अनिवार्य होगा। रसोइया को मध्याह्न् भोजन योजना के मेन्यू का भली-भांति ज्ञान हो। इसमें एनजीओ में कार्यरत रसोइया को प्रतिभाग के लिए सम्मिलित नहीं किया जाएगा। अलग-अलग विद्यालयों की रसोइया ही पात्र होंगी। रसोइयों से प्राप्त आवेदन का विवरण बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में 31 दिसंबर तक उपलब्ध कराना होगा।

प्रतियोगिता आयोजन एवं निर्णायक समिति : पाककला प्रतियोगिता के आयोजन स्थल का चयन जनपद द्वारा निर्धारित किया जाएगा। प्रतियोगिता का आयोजन किसी अवकाश के दिन किया जाएगा। निर्णायक समिति का अनुमोदन डीएम द्वारा किया जाएगा। इसमें बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, जीजीआइसी की प्रधानाचार्य, गृह विज्ञान के इंटर व स्नातक स्तर के प्रवक्ता, किसी प्रतिष्ठित होटल के चीफ कुक, स्वास्थ्य विभाग की महिला अधिकारी, खाद्य सुरक्षा विभाग से एक अधिकारी के साथ ही अलग-अलग विद्यालयों के कक्षा पांच से आठ तक के 10 छात्र छात्रएं होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.