बीटीसी का प्रशिक्षण पूरा रिजल्ट अभी भी अधूरा

इलाहाबाद : उत्तर प्रदेश में होने वाली Basic Shiksha Parishad की assistant teacher recruitment की written exam में आवेदकों की संख्या कम होने के पूरे आसार दिखाई दे रहे है। इसका मुख्य कारण BTC two yearly training course तो पूरा हो गया मगर अभी तक उसका result अपूर्ण है। जिसे अभ्यर्थी में बेचैनी बड़ी है वो सोच रहे है अगर रिजल्ट समय से नहीं आया तो sahayak adhyapak bharti की written exam में कैसे आवेदन करेंगे। रिजल्ट ना आने के पर अभ्यर्थी जन सुनवाई आदि में शिकायत भी कर रहे हैं, लेकिन उसका कोई असर नहीं है। क्यों कि परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में लगातार इस तरह की बड़ी संख्या में शिकायतें आ रही हैं।

BTC 2013 के Fourth semester का result परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय से सितंबर माह में जारी किया है। उसमें तमाम अभ्यर्थियों का द्वितीय सेमेस्टर का रिजल्ट अपूर्ण है। इससे उन्हें अंक पत्र तो मिला, प्रमाणपत्र नहीं मिला है। 27 जून 2016 को द्वितीय सेमेस्टर का रिजल्ट जारी हुआ था। लेकिन इसमें आंतरिक अंक दर्ज नहीं हैं। एक साल बाद भी BTC Second semester का अपूर्ण रिजल्ट पूरा न हो पाने पर अभ्यर्थियों ने इसकी शिकायत परीक्षा नियामक कार्यालय पर की तो उनको पता चला कि डायट ने आंतरिक अंक ही नहीं भेजे है। यही नहीं संबंधित कालेजों ने इस ओर सक्रियता नहीं दिखाई, बल्कि यह तर्क दिया जाता रहा कि अंतिम परिणाम में सब ठीक हो जाएगा।

डायट ने 15 नवंबर को परीक्षा नियामक कार्यालय को पत्र भेजा, लेकिन अब तक वे पहुंचे नहीं। अभ्यर्थी परेशान हैं क्योंकि assistant teacher की 68500 recruitment का विज्ञापन कभी भी जारी हो सकता है। परीक्षा नियामक कार्यालय की ओर से कहा गया है कि ऐसा करने वाले डायट प्राचार्यो से जवाब मांगा जाएगा और यदि मामले को जानबूझकर लटकाया गया है तो उन पर कार्रवाई के लिए शासन को लिखा जाएगा।

पढ़ें- Madhyamik Sanskrit Shiksha Parishad came into existence

B.T.C course information

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *