परिषदीय विद्यालयों में खेलकूद को बढ़ावा देने के लिए विभाग गंभीर

प्रयागराज : इस सत्र से परिषदीय विद्यालयों में खेलकूद को बढ़ावा देने के लिए विभाग गंभीर हो गया है। कक्षा एक से आठ तक के प्रत्येक बच्चों को उनकी रुचि के खेलों से जोड़ा जाएगा। इसको लेकर शिक्षा निदेशक बेसिक ने निर्देश जारी किए हैं।

परिषदीय विद्यालयों में खेलकूद को बढ़ावा देने के लिए अपर शिक्षा निदेशक (बेसिक) की अध्यक्षता में छह से 12 फरवरी तक प्रदेश के सभी जिला व्यायाम शिक्षकों के साथ बैठकें हुई थीं। इसी क्रम में खेलकूद सामग्री खरीदने के लिए मार्च में जिले के प्रत्येक प्राथमिक और जूनियर विद्यालयों को 10-10 हजार रुपये जारी किए गए। हालांकि, बैठकों के निष्कर्षो के आधार पर अब दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। खेलकूद प्रतिस्पर्धा के लिए विद्यालय से मंडल स्तर की प्रतियोगिताओं के लिए तिथियां तय करने के लिए कहा है। सभी बच्चों का पूरा ब्योरा एक्सेल सीट पर रखा जाए। प्रतियोगिताओं के लिए विद्यालय स्तर से ही बच्चों का चयन करते हुए आवश्यक प्रविष्टियां भी अंकित की जाए।

महीने में एक बैठक होना जरूरी : इसकी समीक्षा के लिए बीएसए अथवा खंड शिक्षा अधिकारी (बीईओ) की अध्यक्षता में जिला व्यायाम शिक्षक ब्लॉक व्यायाम शिक्षक एवं खेल अनुदेशकों के साथ महीने में कम से कम एक बैठक जरूर कराई जाए। शिक्षक संघ, जागरूक अभिभावक और खेल अनुदेशकों को शामिल करते हुए प्रत्येक स्तर पर एक खेल समिति बनाने और दिव्यांग बच्चों के लिए अलग से प्रतियोगिताएं कराने के लिए भी कहा गया है। बेसिक शिक्षा अधिकारी संजय कुमार कुशवाहा ने सभी बीईओ को भी निर्देश जारी कर दिए हैं।

प्राथमिक के लिए प्रस्तावित खेल सामग्री : फुटबाल, योग और जिमनास्टिक के लिए गद्दे, कोन, स्टॉप वॉच, बैडमिंटन रैकेट, शटल कॉक व नेट, क्रिकेट के सामान, कैरम और चेस बोर्ड, रस्सी, गोल पोस्ट, पीटी के लिए लेंजियम, एक किग्रा. की मेडिसिन बाल, बॉस्केटबाल, डिस व रिंग, हवा भरने के लिए पंप।

जूनियर के लिए प्रस्तावित खेल सामग्री : उक्त सामग्री के अलावा बॉस्केटबाल, वॉलीबाल और नेट, हैंडबाल, हाकी स्टिक व बाल, शॉट पुट, डिसकस, हाई जंप स्टैंड, हर्डिल्स, जैवलिन।

ये भी पढ़ें : 22 TGT Posts not vacant in Ashaskiya Madhyamik School

0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *