निष्ठा कार्यक्रम का बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने शुभारंभ किया

परिषदीय विद्यालयों में नौनिहालों के व्यक्तित्व को विकसित करने के उद्देश्य से उन्हें गतिविधि आधारित शिक्षा भी दी जाए, ताकि उनमें सीखने की क्षमता का विकास हो और उनकी शिक्षा में भी सुधार लाया जा सके। इसके लिए एनसीईआरटी और एनआइईपीए द्वारा समग्र शिक्षा एकीकृत सेवारत शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम (निष्ठा) शुरू किया गया। प्रशिक्षण कार्यक्रम का मंगलवार को बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने शुभारंभ किया।

बख्शी का तालाब स्थित एसआर इंस्टीट्यूशन में एकीकृत सेवारत शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम के उद्घाटन अवसर पर बेसिक शिक्षा मंत्री ने कहा कि शिक्षक स्वयं मार्गदर्शक हैं, उनका कोई मार्गदर्शक नहीं हो सकता है। हमारा प्रदेश बेसिक शिक्षा के क्षेत्र में बहुत पीछे है और सुधार के लिए समय कम है। इसे पटरी पर लाने के लिए 20-20 खेलना पड़ेगा। उच्च गुणवत्ता वाले शिक्षक कम हैं, मुश्किलें ज्यादा हैं लेकिन, जब से ऐसे शिक्षकों ने पढ़ाना शुरू किया है तब से स्थिति बदलने लगी है। उन्होंने बच्चों के मानसिक शारीरिक स्वास्थ्य के लिए विद्यालय में कक्षा शुरू होने से पहले योगाभ्यास कराने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि शायद ही कोई शिक्षक हो, जिसके पास स्मार्ट फोन न हो लेकिन, वह लोग प्रेरणा एप से यह कहकर भागते हैं कि उनके पास स्मार्ट फोन नहीं है। इससे वह लोग बच नहीं सकते है।

प्रशिक्षण कार्यक्रम से होगा बदलाव: शिक्षा मंत्री ने कहा कि एनसीईआरटी और एनआइईपीए द्वारा समग्र शिक्षा के तहत एकीकृत सेवारत शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम (निष्ठा) में जो प्रशिक्षण कार्यक्रम तैयार किया है, उससे बहुत बदलाव होगा।

डायट लखनऊ के प्राचार्य एवं उप शिक्षा निदेशक डॉ. पवन कुमार के निर्देशन में बहराइच, बलरामपुर, बस्ती, हरदोई, लखीमपुर खीरी, शाहजहांपुर, संतकबीर नगर, श्रवस्ती के चयनित तीन सौ शिक्षकों को बतौर मास्टर ट्रेनर प्रशिक्षित किया जाएगा। इस दौरान विजय किरण आनंद महानिदेशक स्कूली शिक्षा, ऋषिकेश सेनापति निदेशक एनसीईआरटी, सवेंद्र विक्रम बहादुर सिंह निदेशक बेसिक शिक्षा, एसआर इंस्टीट्यूशन के चेयरमैन पवन सिंह चौहान मौजूद रहे।

4434 शिक्षकों को दिया जाएगा प्रशिक्षण : कार्यक्रम के तहत रिसोर्स पर्सन 250 शिक्षकों को पांच दिवसीय तथा स्टेट रिसोर्स पर्सन 50 शिक्षकों को दो दिवसीय प्रशिक्षण दिया जाएगा। निष्ठा के संचालन के लिए राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद के निदेशक को नोडल अधिकारी के तौर पर नामित किया गया है। प्रदेश में इस प्रशिक्षण कार्यक्रम को मेरठ, प्रयागराज, वाराणसी, लखनऊ, आगरा में एनसीईआरटी द्वारा गठित राष्ट्रीय संदर्भदाता समूह द्वारा संपादित किया जाना है। प्रदेश में इसके तहत 16 चरणों 4434 शिक्षकों को प्रशिक्षित किया जाएगा। इसके नतीजों को लेकर विभाग काफी उत्साहित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.