बीएड डिग्री धारकों को आठ साल बाद 69000 शिक्षक भर्ती में मिला मौका

यूपी के परिषदीय स्कूलों में होने वाली शिक्षक भर्ती में बीएड डिग्री धारकों को करीब आठ साल बाद मौका मिला है. 69000 शिक्षक भर्ती में चयन होने के बाद बीएड डिग्री धारक भी प्राइमरी स्कूल के छात्रों को पढ़ाएंगे. 69,000 शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा में सबसे 97,368 बीएड योग्यताधारी उम्मीदवार सफल हुए हैं. हालांकि इस भर्ती के लिए पदों की संख्या से लगभग दोगुने से अधिक अभ्यर्थियों सफल होने से चयन का अवसर हाथ से निकलता देख कम मेरिट वाले डीएलएड (पूर्व में बीटीसी) अभ्यर्थी बीएड डिग्रीधारियों को अवसर देने का विरोध कर रहे हैं. उनका तर्क है कि बीटीसी ट्रेनिंग सिर्फ प्राथमिक एवं एच्च प्राथमिक स्कूलों में शिक्षक पद के लिए होती है जबकि बीएड का पाठ्यक्रम माध्यमिक के अनुसार डिजाइन है

राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) शिक्षक भर्ती के लिए अर्हता तय करती है. नि:शुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम (आरटीई) 2009 लागू होने के पहले यूपी के प्राइमरी स्कूलों में बीएड डिग्रीधारकों को विशिष्ट बीटीसी के माध्यम से 2004, 2007 और 2008 में नियुक्ति दी गई. क्योंकि उस समय शिक्षकों के रिक्त पदों की तुलना में बीटीसी अभ्यर्थियों की संख्या कम थी. आरटीई 2009 लागू होने के बाद एनसीटीई की अधिसूचना 23 अगस्त 2010 और 29 जुलाई 2011 के अनुसार बीएड डिग्री धारकों को एक जनवरी 2012 तक प्राथमिक विद्यालयों में नियुक्ति के लिए इस शर्त के साथ पात्र माना गया कि वो प्राथमिक शिक्षा में 6 माह का प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे

उत्तर प्रदेश सरकार ने 9 नवंबर 2011 को शिक्षक सेवा नियमावली 1981 में संशोधन करके 72825 प्रशिक्षु शिक्षक भर्ती निकाली थी जिसमें बीएड डिग्रीधारकों को भी मौका मिला. हालांकि इस भर्ती को लेकर विवाद हो गया था. निर्धारित समय सीमा में बीएड की नियुक्ति न होने पर एनसीटीई ने 10 सिंतबर 2012 को बीएड की प्राथमिक शिक्षक के रूप में नियुक्ति की समय सीमा 31 मार्च 2014 तक बढ़ा दी थी लेकिन फिर भी नियुक्त नहीं हो पाई. फिर सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर 2015 में नियुक्ति प्रक्रिया शुरू हो पाई। इससे जुड़े सभी विवाद का अंत 25 जुलाई 2017 को हुआ

इस बीच नवंबर 2011 की 72825 प्रशिक्षु अध्यापक भर्ती के बाद 68500 शिक्षक भर्ती और बेसिक शिक्षा परिषद ने आधा दर्जन से अधिक शिक्षक भर्तियां निकाली लेकिन किसी में बीएड डिग्री धारकों को मौका नहीं मिला. दो साल पहले एनसीटीई ने 28 जून 2018 में बीएड को प्राथमिक स्कूलों में भर्ती के लिए फिर मान्य कर लिया जिसके बाद एक दिसंबर 2018 से शुरू हुई 69000 सहायक अध्यापक भर्ती में बीएड डिग्री धारकों वालों को भी आवेदन का दिया गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.