नगरीय विद्यालयों में शिक्षकों की नियुक्ति अटकी

प्रतापगढ़ : कहावत है, आसमान से गिरे तो खजूर में अटके। ऐसा ही कुछ नगर क्षेत्र के स्कूलों में खाली चल रहे शिक्षकों के पद के साथ हो रहा है। जागरण ने इस संबंध में अभियान चलाकर शासन प्रशासन को बताया कि पिछले कई दशकों से नगर क्षेत्र के स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति पर रोक का खामियाजा नौनिहालों को भुगतना पड़ रहा है। शासन ने इसे संज्ञान में भी लिया और सूबे के सभी बीएसए की बैठक में कहा गया कि नगर के स्कूलों में अंचल से शिक्षकों की तैनाती करके व्यवस्था सुधारी जाए। इसका आदेश अभी तक बीएसए कार्यालय नहीं पहुंच सका। इस कारण नगर के स्कूलों में शिक्षक तैनात नहीं हो सके।

यहां नगर क्षेत्र के प्राइमरी स्कूलों में सृजित 117 शिक्षकों के पदों में से मात्र 17 शिक्षकों की नियुक्ति है। 100 शिक्षकों के पद रिक्त चल रहे हैं। इसके साथ चार विद्यालय शिक्षक विहीन हैं। नगर क्षेत्र में कुल 27 प्राइमरी व सात पूर्व माध्यमिक विद्यालय हैं। 27 प्राइमरी स्कूलों में सिर्फ 17 शिक्षकों की तैनाती है, यह सभी शिक्षक अपने अपने विद्यालयों में हेडमास्टर हैं। पांच विद्यालय ऐसे हैं, जो शिक्षामित्रों के सहारे चल रहे हैं। इनमें प्राथमिक विद्यालय माधवगंज प्रथम, चिलबिला द्वितीय, पड़ाव वार्ड द्वितीय, बलीपुर प्रथम तथा प्राथमिक विद्यालय मकंद्रूगंज तृतीय शामिल हैं। नगर क्षेत्र के स्कूलों में कुल 15 शिक्षामित्रों की नियुक्ति है। इसी प्रकार नगर क्षेत्र में सात पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में 21 शिक्षकों की नियुक्ति है, जबकि 33 शिक्षकों का पद सृजित है। छात्र संख्या की बात करें तो प्राइमरी स्कूलों में 1833 तथा पूर्व माध्यमिक विद्यालयों में 585 छात्रएं हैं। नगर क्षेत्र के आधा दर्जन से अधिक स्कूल जर्जर हैं।

महकमे को शासन के आदेश का इंतजार, स्कूलों में खाली चल रहे शिक्षकों के पद

नगर क्षेत्र के प्राइमरी स्कूलों में ग्रामीण क्षेत्र से शिक्षकों की नियुक्ति के संबंध में अभी तक शासन से कोई लिखित आदेश नहीं आया है। शासन का आदेश मिलते ही उसका क्रियान्वयन किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.