जनपद में ड्राप आउट बच्चों को चिह्नित कर परिषदीय विद्यालयों में उम्र के अनुसार दाखिला दिलाया जाएगा

Basicगोरखपुर: जनपद में ड्राप आउट बच्चों को चिह्नित कर परिषदीय विद्यालयों में उम्र के अनुसार दाखिला दिलाया जाएगा। इसके लिए शारदा हर दिन स्कूल आए अभियान के पहले चरण का आगाज हो चुका है। ये 15 अक्टूबर तक चलेगा। इस दौरान शिक्षा से वंचित बच्चों का चिह्नांकन कर शिक्षक उनका स्कूलों में नामांकन कराकर उन्हें शिक्षा की मुख्यधारा से जोड़ेंगे। इसका ब्योरा वे शारदा पोर्टल पर अपलोड करेंगे।

शैक्षिक सत्र 2021-22 में ड्राप आउट बच्चों के चिह्नांकन, पंजीकरण एवं नामांकन के तहत पांच से 14 वर्ष के बच्चों का चिह्नांकन किया जाएगा। दूसरे चरण में ईंट-भट्टे, खदान में काम करने वालों या गांव से पलायन करने वालों के बच्चे शामिल होंगे। वहीं आंगनबाड़ी आने वाले वे बच्चे जिनकी आयु एक जुलाई 2021 को पांच वर्ष हो गई हो उनका अनिवार्य रूप से प्राथमिक स्कूल की कक्षा एक में नामांकन कराया जाएगा। प्रत्येक जनपद के लिए ड्राप आउट बच्चों को स्कूल पहुंचाने के लिए अलग-अलग लक्ष्य दिए गए हैं।

यह भी पढ़ेंः  तकनीकी शिक्षा संस्थानों की राज्य स्तरीय रैंकिंग प्रणाली जल्द

बीएसए आरके सिंह ने बताया कि शारदा हर दिन स्कूल आए के पहले चरण का अभियान शुरू हो चुका है। जनपद के सभी शिक्षकों को ड्राप आउट बच्चों को चिह्नित कर स्कूलों में नामांकन कराने के लिए निर्देशित कर दिया गया है।

’ शारदा हर दिन स्कूल आए अभियान का पहला चरण शुरू

’ 15 अक्टूबर तक नामांकन के लिए चिह्नित किए जाएंगे बच्चे

15 नवंबर से शुरू होगा अभियान का दूसरा चरण

शारदा अभियान का दूसरा चरण 15 से 31 नवंबर तक चलेगा। इस दौरान अमान्य विद्यालयों में शिक्षा ग्रहण कर रहे बच्चों को प्रोत्साहित कर परिषदीय विद्यालयों में नामांकन कराने के साथ ही संबंधित विद्यालय के विरुद्ध नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ेंः  फिट इंडिया रैंकिंग: जूनियर स्कूल ही आवेदन करेंगे

10779 बच्चों के चिह्नांकन व नामांकन का लक्ष्य: जनपद में शैक्षिक सत्र 2021-22 में ड्राप आउट बच्चों के चिह्नांकन, पंजीकरण एवं नामांकन के लिए शासन ने 10779 का लक्ष्य तय किया है। इनमें पांच से छह वर्ष के 1448, सात से आठ वर्ष के 6922 तथा 11 से 14 वर्ष के बच्चों की संख्या 2409 निर्धारित है।

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.