69000 शिक्षक भर्ती केस की वास्तविक स्थिति सर्वेश प्रताप की कलम से

साथियों अपने केस से सम्बंधित कुछ बिंदु हैं जो आप सबसे साझा कर रहा हूँ। मैं बाकी लोगों की तरह घर पर बैठकर #वाहवाही, #पब्लिसिटी और #जिंदाबाद के लिए फिजूल की लम्बी-लम्बी पोस्ट नही करता हूँ और न ही मनोरंजन के लिये केस लड़ रहा हूँ कि रोज रोज की फ़ोटो डालूं। पोस्ट तभी करता हूँ जब स्थिति अति-संवेदनशील होती है। पोस्ट लम्बी है पर एक-एक बिंदु अक्षरशः सत्य हैं, अतः पोस्ट पढ़ने के बाद किसी प्रकार के भ्रम में न पड़ें। कृपया ध्यान से पूरी पोस्ट पढ़ें और पढ़ने के बाद आप खुद निर्णय लें कि आपको क्या करना चाहिये…!

जैसा कि आप सबको पता ही होगा कि अपने केस की कल 9 दिसम्बर की सुनवाई जस्टिस इरशाद अली जी के छुट्टी पर होने के कारण नही हो पाई।

चूंकि यह सुबह की पता चल गया था कि सुनवाई होनी नही है इसलिए किसी भी पैरवीकार ने कोर्ट आकर कुछ पता करने की जिम्मेदारी नही समझी, बस आनन-फानन में सबने यह पोस्ट डाल दी की केस एक-दो दिन में सुनवाई के लिए लग जायेगा।

अब शायद यह जानकर आप सबको काफी दुःख होगा जो कल कोर्ट में हुआ। कोर्ट नम्बर-1(जो कि कल केवल 3:15 तक ही बैठी थी) के उठने के बाद जब हमारे अधिवक्ता महोदय डीपी शुक्ला जी और मैंने स्वयं जाकर #बेंच_सेक्रेटरी से यह पता किया कि 69000 शिक्षक भर्ती वाली स्पेशल अपील- 156/2019 की अगली सुनवाई के लिए जज साहब ने क्या #डायरेक्शन दिया है तो बेंच सेक्रेटरी ने स्पष्ट रूप से बताया कि सीनियर जज मा. पंकज जायसवाल साहब ने इसे अब #दिसम्बर_माह में सुनने से मना कर दिया है और #जनवरी में सुनने को कहा है। उन्होंने यह भी बताया कि इसके साथ जज साहब ने कोर्ट रूम से इस केस से सम्बंधित सभी फाइलों, अपीलों को हटाने को भी कह दिया है क्योंकि शीतकालीन अवकाश के दौरान पूरा कोर्ट खाली करना होता है। बेंच सेक्रेटरी महोदय से निवेदन से निवेदन भी किया गया कि वो जज साहब से पुनः बात करें पर उन्होंने साफ मना कर दिया ।

कुल मिलाकर सीनियर जज पंकज जायसवाल सर ने अपनी मंशा जाहिर कर दी है कि अब वो इस मामले को दिसम्बर में नहीं सुनेंगे, और इस आधार पर अब केस जनवरी में ही लिस्ट होगा।

अब कुछ लोग यह सुझाव देंगे कि अपने सीनियर अधिवक्ताओं द्वारा केस मेंशन करवाया जाए, तो उसका उत्तर यह है कि यदि #महाधिवक्ता_महोदय (AG) स्वयं आकर जज साहब से निवेदन करें और दिसम्बर में ही डेट देने को कहें तभी ऐसा सम्भव है अन्यथा किसी भी अन्य सीनियर काउंसिल/अधिवक्ता की बात जज साहब नही मानते हैं यह आपको अच्छे से पता होगा।

कल न्यायालय से निकलने के बाद पूरी अपडेट और केस की वास्तविक स्थिति विभाग के अधिकारियों के समक्ष रखी गई, और निवेदन किया गया कि महाधिवक्ता(AG) महोदय ही अब इस मामले में कुछ कर सकते हैं अन्यथा अब जनवरी में सुनवाई जाने से कोई रोक नही सकता।

हलांकि अधिकारियों का यह आश्वाशन है कि वो इस बारे में महाधिवक्ता महोदय से बात करेंगे, परन्तु वह इस मामले पर कितना ध्यान देते हैं यह इस बात पर निर्भर है कि सरकार का 69000 शिक्षक भर्ती को लेकर उनके ऊपर कितना दबाब है।

साथियों हमारी टीम के असहाय साथी लगातार #हाईकोर्ट औऱ #अधिकारियों के सम्पर्क में हैं, पर स्पष्ट रूप से बताना चाहता हूँ कि #दिसम्बर_माह में अब कोई आसार नही दिख रहे। बाकी यदि महाधिवक्ता महोदय उपस्थित होकर जल्द सुनवाई के निवेदन करते हैं तो ही कुछ सम्भव है। अन्यथा की स्थिति में हमारे सभी सीनियर अधिवक्ता भी मिलकर एक बार प्रयास जरूर करेंगे कि अपना केस #दिसम्बर_महीने में सुनवाई के लिए लगे।

केस के बाकी पैरवीकारों से इतना कहना है कि यदि अपनी माशूकाओं के साथ #मसूरी और #ग्वालियर घूमने, मुंशियों पर ही निर्भर रहने और घर पर रहकर परिवार की देखरेख करने के बजाए अब केस पर भी थोड़ा मेहनत कर लें।

बाकी हमारी टीम का आज और कल में यही प्रयास रहेगा कि विभाग के अधिकारियों, महाधिवक्ता महोदय और अपने सीनियर अधिवक्ताओं के माध्यम से यही दबाब बने कि सुनवाई दिसम्बर में हो। फिलहाल जैसा भी होगा आज शाम या कल शाम तक सूचित कर दिया जाएगा।

बाकी एक जरूरी सूचना यह है कि यदि अब 69000 शिक्षक भर्ती में नौकरी लेनी है तो हर एक परिस्थिति के लिए तैयार रहना है। आगे की रणनीति पर कार्य शुरू है जल्द ही आप सबको सूचित भी कर दिया जाएगा।

#सर्वेश_प्रताप_सिंह

#धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.