आरक्षित सामान्य करने पर भी डीएलएड 88 हजार सीटें खाली

डीएलएड में अभ्यर्थी की रूचि काम होती नजर आ रही है क्योकि डीएलएड 2019-20 सत्र में प्रवेश के लिए अभ्यर्थी नहीं मिल पा रहे। दूसरे राउंड की सीट आवंटन के बाद ओबीसी, एससी/एसटी व विशेष आरक्षण वर्ग की सीटें सामान्य वर्ग के लिए परिवर्तित कर दी गई थी। इसके बावजूद डीएलएड 88 हजार से अधिक सीटें खाली रह गई हैं। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय ने सोमवार को आखिरी राउंड का सीट एलॉटमेंट जारी कर दिया गया।

प्रदेश में 67 डायट व 3087 निजी कॉलेजों है जिनमें 229150 सीटों में से 140833 सीटों का एलॉटमेंट हुआ है। इस प्रकार एक तिहाई के करीब सीटें खाली रह गई हैं। डीएलएड 2019-20 सत्र में प्रवेश के लिए डायट की तो सभी 10600 सीटें भर गई हैं। लेकिन निजी कॉलेजों की सीटें नहीं भरी गई। आखिरी राउंड के लिए 20430 अभ्यर्थियों ने कॉलेज का विकल्प भरा था। इनमें से 16902 को सीटें आवंटित हुई।

जिसमें 3528 अभ्यर्थियों के आवेदन तो निरस्त हो गए। डीएलएड 2019-20 सत्र में प्रवेश के लिए आखिरी तारीख 30 अगस्त है। प्रवेश लेने वाले अभ्यर्थियों की वास्तविक संख्या 30 अगस्त के बाद ही पता चल सकेगी। डीएलएड के में प्रवेश लेने के लिए पहले राउंड में 138442 अभ्यर्थियों को सीटें आवंटित हुई थी। लेकिन इनमें से 81826 अभ्यर्थियों ने ही प्रवेश लिया था। इस लिहाज से प्रवेश लेने वाले अभ्यर्थियों की संख्या घटने की उम्मीद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.