69000 शिक्षक भर्ती है या एक जंग

लगभग 1 साल होने जा रहा…बहुत कुछ लोगो ने दांव पर लगा रखा है…बहुत लंबा वक्त ले लिया… और न जाने कितना वक़्त और लगेगा…।इधर जज साहब भी बदल गए है की वहीं है…कुछ पता नहीं…2 जनवरी को कोर्ट खुलेगा… अपने केस के बारे में किसी को कुछ भी नहीं पता…।*
*अगर 6 जनवरी की परीक्षा के साथ एलएलएलबी में नाम लिखवा लेता तो आज 2 सेमेस्टर भी पूरे हो गए होते…। हम सभी भी अपने विचार से वकील की भूमिका में है…। इस भर्ती ने बहुत कुछ सीखा भी दिया…कानूनी दांव पेंच… और उससे कहीं अधिक … ” संयम और धैर्य रखना ” ।*

*शिक्षामित्र इन सभी विधाओं में पारंगत है…यह हमारे आपके बस की बात नहीं की 7-8 घंटे पढ़ने के बाद यह भी करना पड़े।*
*भर्ती अभी और भी कानूनी पचड़ों से होकर गुजरेगी. आपके 1 वर्ष का धैर्य अब इतना सशक्त हो चुका है कि आगामी 5-6 महीने भी आप समझ लेंगे.*
*इन सबके बीच जो सुकून देने वाली बात यह है कि बहुत सारे 90_97 पास भाई बहन किसी अन्य सरकारी व्यवस्था में नौकरी में लग चुके है. ऐसे लोगो की संख्या भी ज्यादा है…। इसका पूरा फायदा कम अंक पाने वाले लोगो को मिलेगा.!*
*आप सभी लोगो से ज्यादा सक्रिय भूमिका में हैं…जैसे ही कोई कोर्ट में हलचल होती है.तुरंत आप सभी ग्रुप में पोस्ट कर देते है कि ये हो गया.अब क्या होगा..फिर आप तुरंत लीगल टीम के लोगो को फोन करना शुरू कर देते है। आप अपने जगह सही है…एक मज़े की बात बताता हूं.*
*आप की ही तरह हम सभी भी हैरान हो जाते है कि आगे क्या होगा ? आप तो हमसे पूछ लेते है…हम आपसे अपना दुःख कैसे बताएं ? किसको बताए ?.तो वकीलों को पूछते है..वो जैसा समझाते है..वहीं आपको बताया जाता है. कानूनी पचड़ों में पड़ना ही जीवन बर्बादी की तरफ बढ़ने वाला पहला पड़ाव है। भर्ती 90_97 पर ही होगी… इसका लेट होने का भी फायदा किसी को तो मिल ही रहा होगा…चाहे #सरकार हो या #पंसारी। सरकार ने ₹42000*10महीने*69000 *छात्र …बस इतना रुपया बचा लिया… और पंसारी तो विधायक बन रहा। अभी कुछ परीक्षाएं चल रही है… जो जनवरी में होंगी..। उस पर भी आप ध्यान रखें… 69000 भर्ती अपने अंतिम समय में है लेकिन अभी कुछ नहीं कहा जा सकता। सिर्फ यही एक सच है कि -*
*”जो हुआ , वो अच्छा था…*
*जो हो रहा है , वो अच्छा ही हो रहा…लेकिन जो होगा…वो बेहद ही उम्दा होगा..।।”*

*साभार लेख :- राहुल जी*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.