69000 शिक्षक भर्ती कटऑफ मामला Shivendra Pratap Singh की कलम से

-साथियों ऑर्डर इस माह या उस माह रिजर्व जैसे अनुमान बेकार हैं बेहतर है सच्चाई आप सब जानते रहिये कि जबतक विपक्ष के सभी वकील अपनी बात रख न लेंगे तब तक ऑर्डर रिजर्व जैसी कोई सम्भावनाएँ नहीं हैं ।उपेंद्र मिश्रा जी के बाद अभी बचे वकीलों में LP मिश्रा सर,HN सिंह सर,आनन्द नन्दन सर, और GS परिहार सर रहेंगे ।वह अपना पक्ष रखेंगे और दो चीजें हैं या तो कोर्ट उनका सबमिशन जल्दी करवाये या फिर वो खुद अपना सबमिशन जल्दी खत्म कर दें ।

-हमारे वकीलों ने इतना समय नहीं लिया तो वो क्यों ले रहे हैं कई साथी ये पूछ रहे हैं । भाई अपने सभी वकीलों ने ऑन मेरिट बहस की परी कथा सुनाने या फिर कोर्ट को गुमराह करने या फिर पासिंग मार्क से हटकर अन्य किसी मुद्दे पर घण्टों कोर्ट का समय आपके वकीलो ने जाया नहीं किया तो वो हम सबकी मर्जी थी पर आप इसी समझदारी की उम्मीद विपक्ष से क्यों करते हैं ? हमारे वकील भी चाहते तो समय ले सकते थे और उनको भी विपक्ष रोक न पाता जैसे हम न रोक पा रहे हैं विपक्ष को ।

-अपने पैनल के सहायक कनिष्ठ अधिवक्ताओं ने जब ऑब्जेक्शन का प्रयास किया तो कोर्ट ने यह कहकर दरकिनार कर दिया कि आपको भी समय मिलेगा तब आप अपना पक्ष रखियेगा तो बिंदुओं को क्रमवार नोट करके उनकी काट ढूंढना ही अपने पैनल का कार्य है यह अपरिहार्य है ।

-सरकार जल्द सुनवाई की प्रे कर चुकी है और कोर्ट ने भी बीच बीच मे इसको दोहराया है लेकिन पार्ट हर्ड बेंच पूरे दिन मामले को सुने ऐसा बहुत रेयर ही होगा या शायद नहीं होगा । कोर्ट अपने नियत समय पर ही सुनेगी और इस बात को पहले भी कई बार बताया गया है जज की अनुपलब्धता की स्थिति में सुनवाई प्रभावित होगी उसपर अधीर नहीं हुआ जा सकता है ।

-फिलहाल संक्षेप में इतना ही कह सकते हैं अगर विजयी होते और यहां हम ऑर्डर को डिफेंड कर रहे होते तो हम स्वतंत्र रूप से भर्ती के लिए जो मन करता कर सकते थे पर फिलहाल हम सब यहां जीत के लिए लड़ रहे हैं और विपक्ष के ऑर्डर को चैलेंज करके खड़े हैं तो जीत मिलने तक अपना आपा बचाकर रखना ही पड़ेगा हम सबको ।

-सुनवाई की अगली तिथि 9 दिसम्बर सायं 3:15 बजे से नियत है । सुनवाई प्रतिदिन होगी या नहीं होगी जैसी अटकलें निवेदन है बन्द कर दीजिए क्योंकि जज की उपलब्धता पर ही निर्भर है यह और अगली सुनवाई की तिथि उसी दिन शाम को स्पष्ट हुआ करेगी तो सुनवाई पर नजर बनाकर रखिये पर ऑर्डर रिजर्व होने तक हर सुनवाई पर उम्मीद पालकर खुद को निराश होने से बचाइए ।

Shivendra Pratap Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.