68500 शिक्षक भर्ती परीक्षा में सवाल अंग्रेजी में भी, जवाब हिंदी भाषा में ही मान्य

इलाहाबाद : प्रदेश के परिषदीय स्कूलों के लिए होने जा रही सहायक अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षा में अभ्यर्थियों को प्रश्नपत्र अंग्रेजी व हिंदी में मिलेंगे, लेकिन अंग्रेजी विषय को छोड़कर अन्य का जवाब हिंदी भाषा में ही देना होगा। परीक्षा में नकल पर अंकुश लगाने के लिए शासन ने कड़े इंतजाम किए हैं। अगर परीक्षा में अभ्यर्थी की जगह कोई दूसरा पकड़ा जाता है तो इस परीक्षा से ही नहीं बल्कि वह भविष्य की परीक्षाओं से डिबार होगा और उस पर एफआइआर भी दर्ज कराई जाएगी। प्राथमिक स्कूलों के लिए पहली बार 68500 सहायक अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षा कराई जा रही है। सहायक अध्यापक भर्ती को लेकर अभ्यर्थियों के चयन के लिए शासन ने लंबी गाइड लाइंस जारी की है। भर्ती के लिए परीक्षा मंडल मुख्यालय के जिले पर होगी। परीक्षा केंद्रों का निर्धारण उस जिले के जिलाधिकारी की अध्यक्षता में बानी समिति करेगी। इस समिति वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, मंडलीय संयुक्त शिक्षा निदेशक, डायट प्राचार्य, सहायक मंडलीय शिक्षा निदेशक बेसिक, बेसिक शिक्षा अधिकारी सदस्य होंगे, जबकि जिला विद्यालय निरीक्षक सदस्य सचिव होंगे। राजकीय, अशासकीय कालेज व महाविद्यालयों को परीक्षा केंद्रों के चयन में वरीयता दी जाएगी। अगर यह कालेज व महाविद्याल उपलब्ध न हो सके तो अच्छी साख के निजी कालेज को केंद्र बनाया जाएगा साथ ही केंद्र को शहरी क्षेत्र में ही रखने पर पूरा जोर है। हर परीक्षा केंद्र पर स्टेटिक मजिस्ट्रेट की तैनाती होगी। परीक्षा के दौरान प्रश्नपत्र परीक्षा केंद्र पर नामित मजिस्ट्रेट की उपस्थिति में केंद्र व्यवस्थापक, दो कक्ष निरीक्षकों व पर्यवेक्षक के सामने खोले जायेंगे और उसकी वीडियोग्राफी रिकार्डिग भी की जाएगी।

प्रश्नपत्र व उत्तर पुस्तिका का नंबर परीक्षार्थियों को उपस्थिति पंजिका में अनिवार्य रूप से डालना होगा। अभ्यर्थी हस्ताक्षर करेंगे और उनसे अंगूठा भी लगवाया जाएगा। परीक्षा में अनुपस्थित परीक्षार्थियों की सूचना तीन प्रतियों में बनेगी। एक परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव, दूसरी केंद्र व्यवस्थापक व तीसरी उत्तरपुस्तिका मूल्यांकन करने वाली एजेंसी को भेजी जाएगी। कक्ष निरीक्षकों को हिदायत दी जाएगी कि वह उत्तर पुस्तिका पर हस्ताक्षर से पहले सभी सूचनाएं सही हैं या नहीं इसे जरूर जांच लें, क्योंकि जिन उत्तरपुस्तिकाओं में अनुक्रमांक, नाम, पंजीकरण आदि सही से भरा नहीं होगा उनका मूल्यांकन नहीं किया जाएगा। परीक्षार्थियों को परीक्षा के बाद प्रमाणपत्र मंडल मुख्यालय के जिले पर स्थित डायट से दिया जाएगा। प्रमाणपत्र खोजाने या नष्ट हो जाने पर 500 रुपये का डिमांड ड्राफ्ट देने पर दूसरा प्रमाणपत्र भी निर्गत होगा। परीक्षा नियामक प्राधिकारी सचिव उत्तर पुस्तिका की स्कैंड कॉपी की प्रति एक वर्ष तक दो हजार रुपये का डिमांड ड्राफ्ट लेकर दे सकेंगी। यही नहीं, यदि किसी अभ्यर्थी ने एक से अधिक बार ऑनलाइन आवेदन किया तो अंतिम बार हुआ आवेदन ही मान्य होगा।

सहायक अध्यापक भर्ती परीक्षा 2018 की तैयारियां शुरू दो भाषाओं में होंगे प्रश्नपत्र, अनुचित साधनों के प्रयोग पर एफआइआर व डिबार

पढ़ें- Sahayak Adhyapak Bharti need 45 percent marks

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *