68500 शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा के संशोधित रिजल्ट का बेसब्री से इंतजार

शासन ने परिषदीय स्कूलों की 68500 सहायक अध्यापक भर्ती की लिखित परीक्षा के लिए संशोधित परिणाम जारी करने का एलान किया था। सहयक शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा देने वाले एक लाख से अधिक अभ्यर्थी संशोधित रिजल्ट जारी होने का बेसब्री से इंतजार कर रहे है। उनको पता है, ये संशोधित परिणाम किसी का भी भविष्य बना सकता है। ये संशोधित परिणाम इस मायने में भी महत्वपूर्ण है कि जो अभ्यर्थी इस लिखित परीक्षा में कॉपी पर उत्तीर्ण हो रहे हैं उनको शिक्षक बनाने का मौका मिलेगा, वहीं जिनके अंक तय सफलता से कम होंगे, वे चयन प्रक्रिया से बाहर हो सकते हैं।

परिषदीय स्कूलों के लिए योगी सरकार द्वारा कराई गई सबसे बड़ी शिक्षक भर्ती में गड़बड़ियों के चलते ये भर्ती विवादों में फस गई है। इस भर्ती को लेकर सरकार की बड़ी किरकिरी हुई। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय द्वारा शिक्षक भर्ती के लिए लिखित परीक्षा का आयोजन 27 मई को हुआ था। 13 अगस्त को रिजल्ट आने के बाद से परीक्षा परिणाम सवालों के घेरे में हैं। अभ्यर्थियों ने इसके खिलाफ प्रदर्शन भी किया था।

यह भी पढ़ेंः  68500 सहायक शिक्षक भर्ती मामला में कोर्ट ने गैर राज्यों के अभ्यर्थियों को दी राहत

बेसिक शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव डा. प्रभात कुमार के निर्देश पर परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में सभी अभ्यर्थियों की कॉपियों की स्क्रूटनी का कार्य तेजी से चल रहा है। अफसरों के अनुसार स्क्रूटनी का कार्य अगले सप्ताह पूरा हो जाएगा। उसके बाद संशोधित परिणाम जारी होगा। संशोधित रिजल्ट में उत्तीर्ण होने वाले अभ्यर्थियों की संख्या 41556 से अधिक होने का अनुमान है। कॉपी पर अच्छे अंक पाने वाले कई अभ्यर्थी उत्तीर्ण होंगे तो अंकों की हेराफेरी में पहले उत्तीर्ण हुए कुछ अभ्यर्थी रिजल्ट में बाहर भी होंगे।

उच्च स्तरीय समिति की जांच पूरी: 68500.सहायक.अध्यापक.भर्ती की लिखित परीक्षा की जाँच के लिए बनाई गई उच्च स्तरीय समिति की जांच का समय बुधवार को पूरा हो गया है। गन्ना विभाग के प्रमुख सचिव संजय आर भूसरेड्डी की अगुवाई वाली समिति जल्द ही शासन को इस रिपोर्ट सौंपेगी। समिति को 500 से अधिक शिकायतें मिली हैं।

यह भी पढ़ेंः  69 हजार सहायक अध्यापकों की भर्ती के चयनितों को शहरी क्षेत्रों में तैनाती नहीं मिलेगी