सेवन-ए की कार्रवाई के तहत बीएसए के बैंक खाते से 4.70 करोड़ रुपए की रिकवरी

  

बेसिक शिक्षा विभाग देवरिया में सर्व शिक्षा अभियान के तहत कार्यरत करीब चार हजार कर्मचारियों को कर्मचारी भविष्य निधि संगठन की पहल पर बड़ी राहत मिली है। बीएसए कार्यालय इन कर्मचारियों को ईपीएफ की सुविधा नहीं देना चाहता था। ईपीएफ अधिकारियों ने सेवन-ए की कार्रवाई के तहत बीएसए के बैंक खाते से 4.70 करोड़ रुपए दो दिन पहले निकाल लिए। कर्मचारियों के ईपीएफ खाते में यह रकम जमा होगी।

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन कार्यालय के मुताबिक वर्ष 2015 में केन्द्र सरकार ने निर्देश दिया था कि विभिन्न विभागों में संविदा पर कार्यरत कर्मचारियों को ईपीएफ की सुविधा दी जाए। इस निर्देश के क्रम में तत्कालीन आयुक्त ने परिक्षेत्र के 13 जिलों के बीएसए को पत्र लिखकर संविदा पर कार्यरत कर्मचारियों की सूची मांगी। कुछ जिलो के बीएसए ने पत्र का जवाब दिया लेकिन देवरिया व गोरखपुर के बीएसए ने पत्र का कोई जवाब नहीं दिया। इसके बाद ईपीएफ आयुक्त ने प्रवर्तन दल को सूचना एकत्र करने की जिम्मेदारी सौपी। प्रवर्तन दल की रिपोर्ट पर कर्मचारियों का ब्योरा तैयार कर राजस्व निर्धारण की कार्रवाई की गई।

इसके बाद बीएसए देवरिया ने पिछले साल ईपीएफ ट्रिब्यूनल में अपील की। ट्रिब्यूनल ने ईपीएफ के पक्ष में फैसला दिया। ईपीएफ कमिश्नर ने बीएसए देवरिया पर अप्रैल-15 से जुलाई-19 तक 4.70 करोड़ रुपए का असेसमेंट कर नोटिस भेजा। बावजूद इसके बीएसए ने जमा नहीं किए।

उधर बीएसए देवरिया ने ट्रिब्यूनल के फैसलें को लेकर हाईकोर्ट में अपील कर स्टे मांगा। बीएसए की अपील को कोर्ट ने स्वीकार लिया लेकिन ट्रिब्यूनल के आदेश के क्रियान्वयन पर स्टे नहीं दिया। यह देख वर्तमान ईपीएफ कमिश्नर ने सेवन-ए की कार्रवाई के तहत बीएसए के सर्व शिक्षा अभियान के बैंक खाते को टेक ओवर करते हुए दो दिन पहले खाते से 4.70 करोड़ रुपये निकाल लिए।

सरैया डिस्टलरी से भी 28 लाख की रिकवरी कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के आयुक्त मनीष मणि त्रिपाठी ने बताया कि सरैया डिस्टलरी भी कर्मचारियों का ईपीएफ नहीं जमा कर रही थी। उसके खिलाफ भी बकाए का असेसमेंट कर 1.13 करोड़ का नोटिस भेजा गया था। सेवन ए की कार्रवाई के तहत उसके खाते से 28 लाख की रिकवरी की गई है।

ट्रिब्यूनल के फैसले के खिलाफ हमने हाईकोर्ट में अपील की है। बावजूद इसके ईपीएफ कमिश्नर ने हमारे सर्व शिक्षा अभियान के बैंक खाते से 4.70 करोड़ रुपये की रिकवरी कर ली है। दशहरा बाद विभाग के अधिवक्ता से बातचीत कर अगला कदम उठाया जाएगा। ओम प्रकाश यादव, प्रभारी बीएसए, देवरिया

बीएसए देवरिया के खिलाफ सेवन ए की कार्रवाई कर खाते से 4.70 करोड़ की रिकवरी की गई है। इस से संविदा कर्मचारियों के ईपीएफ धनराशि की भरपाई की जाएगी। बीएसए गोरखपुर को भी राजस्व निर्धारण का नोटिस भेजा गया है। दिवाली से पहले गोरखपुर के कर्मचारियों के भी ईपीएफ की रकम को टेकओवर किया जाएगा। मनीष मणि त्रिपाठी, आयुक्त, ईपीएफओ

’ कर्मचारी भविष्य निधि आयुक्त ने बीएसए देवरिया के खिलाफ की सेवन-ए की कार्रवाई ’ सर्व शिक्षा अभियान के तहत तैनात चार हजार कर्मचारियों को मिली राहत ’ बेसिक शिक्षा विभाग नें इन कर्मचारियों के चार साल से एक रुपये नहीं जमा किए

You may Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *