29334 सहायक अध्यापकों की भर्ती पूरी करने की मांग को लेकर अभ्यर्थियों ने किया प्रदर्शन

उच्च प्राथमिक विद्यालय में विज्ञान और गणित विषय के 29334 सहायक अध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया पूरी करने की मांग को लेकर अभ्यर्थियों ने सोमवार को शिक्षा निदेशालय में बेसिक शिक्षा परिषद कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। अभ्यर्थियों का कहना है कि नियुक्ति प्रक्रिया में बचे 2242 पदों को छह सप्ताह में भरने की बात सरकार ने हाईकोर्ट में अवमानना याचिका की सुनवाई के दौरान कही है।.

लिहाजा अब इस भर्ती को 30 दिसंबर 2016 को जारी आदेश के अनुसार पूरा किया जाए। आपके अपने अखबार हिन्दुस्तान ने 15 दिसंबर के अंक में ‘उच्च प्राथमिक स्कूलों में 2242 पदों पर भर्ती का रास्ता साफ’ शीर्षक समाचार प्रकाशित किया था। गौरतलब है कि शिक्षकों के 29334 पदों पर सीधी भर्ती 11 जुलाई 2013 को शुरू हुई थी। आठ चक्र की काउंसिलिंग के बाद सरकार ने मार्च 2017 में नियुक्ति प्रक्रिया रोक दी थी। जिस पर अभ्यर्थियों ने प्रक्रिया पूरी करने के लिए याचिकाएं कर दी। हाईकोर्ट ने पूर्व में भर्ती करने के आदेश दिए थे लेकिन सरकार ने प्रक्रिया शुरू नहीं की। जिससे नाराज अभ्यर्थियों ने अवमानना याचिका की। जिसकी सुनवाई के दौरान 6 दिसंबर को महाधिवक्ता ने रिक्त पद भरने की बात कही थी।

यह भी पढ़ेंः  शिक्षक भर्ती कटऑफ के खिलाफ शिक्षामित्र हाई कोर्ट की शरण में

कक्ष निरीक्षक ने अंधेरे में डाला टीईटी अभ्यर्थी का भविष्य: 18 नवंबर को प्राथमिक स्तर की टी ई टी में शामिल पीलीभीत जिले के बीसलपुर तहसील निवासी संतोष कुमार का दावा है कि उन्होंने प्रयागराज में परीक्षा दी थी और उनका रोल नंबर 3511005372 था। संतोष का परिणाम रोक दिया गया। परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय एलनगंज में कॉपी निकलवाकर देखी तो अंग्रेजी के साथ संस्कृत भाषा को भी भरकर क्रास किया गया था जबकि उन्होंने सिर्फ अंग्रेजी भाषा चुनी थी। संतोष का दावा है कि परीक्षा केंद्र की कक्ष निरीक्षक से संपर्क किया तो उन्होंने संस्कृत भाषा भरने की अपनी गलती स्वीकार की। संतोष ने परिणाम घोषित करने की मांग की है। परिणाम न मिलने पर 69000 शिक्षक भर्ती में फार्म नहीं भर सकेंगे।

यह भी पढ़ेंः  97 हजार शिक्षक भर्ती नहीं अब 68500 शिक्षक भर्ती ही होगी