200 महिला अभ्यर्थियों को विद्यालय आवंटित

महराजगंज। जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान में बुधवार को दिव्यांग वर्ग के अवशेष 13 तथा महिला वर्ग के अभ्यर्थियों ने विद्यालय आवंटन के लिए अपना पसंदीदा विकल्प भरा। विकल्प भरने के उपरांत अभ्यर्थियों को आवंटन पत्र भी दिया गया। उन्हें अपने विद्यालयों पर पहुंचकर अब कार्यभार संभालना होगा।
36590 शिक्षक भर्ती के तहत जिले में चयनित 1242 शिक्षकों को विद्यालय का आवंटन किया जाना है। सोमवार को 28 में से दिव्यांग वर्ग के 15 अभ्यर्थियों ने अपना विकल्प भरा था, बुधवार को भी अवशेष 13 अभ्यर्थियों ने अपना विकल्प भरने का कार्य किया। इसके उपरांत महिला वर्ग से विकल्प लेने की प्रक्रिया प्रारंभ की गई। चिन्हित 600 महिलाओं में से बुधवार की देर शाम तक कुल महिलाओं ने अपना विकल्प भरा। अब वे आवंटित विद्यालय पर कार्यभार ग्रहण करेंगे। विकल्प भरवाने की प्रक्रिया में अपर उप जिलाधिकारी अविनाश कुमार, डायट प्राचार्य रवींद्र सिंह, बीएसए ओमप्रकाश यादव व जिला कृषि अधिकारी वीरेंद्र कुमार ने अहम भूमिका निभाई। इस दौरान एमआईएस प्रभारी दिनेश मिश्रा, पटल सहायक मनीष सिंह, संजय कुमार, कुलदीप चौधरी, विजय आजाद, राममूर्ति, अशोक कुमार समेत अन्य लोगों ने अहम भूमिका निभाई।

सदर व परतावल ब्लॉक में तैनाती को लेकर अधिक उत्साह
विद्यालय के आवंटन में महिला शिक्षकों में सदर एवं परतावल ब्लॉक में तैनाती को लेकर अधिक उत्साह देखा गया। दूरदराज से आने वाले शिक्षकों ने परतावल को प्रथम वरीयता दी, दूसरे नंबर पर सदर व तीसरे नंबर पर फरेंदा क्षेत्र के विद्यालय रहे। निचलौल, सिसवा व नौतनवा में विकल्प देने को लेकर शिक्षकों में अधिक उत्साह नहीं दिखा।
पुरुष अभ्यर्थी परेशान रहे
सर्वर की समस्या की वजह से महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों की भी परेशानी बढ़ी है। महिलाओं को विकल्प देने के लिए जहां यहां पर रुकना पड़ा है वहीं पर पुरुषों को भी पहले 27 जनवरी को विकल्प के लिए बुलाया गया था। सोमवार को सर्वर की परेशानी की वजह से जो पुरुष यहां रूके वे विकल्प के लिए पहुंच गए। वहां पहुंचने पर उन्हें ज्ञात हुआ कि महिलाओं की प्रक्रिया पूरी होने के उपरांत ही उनसे विकल्प लिया जाएगा। पुरुष अभ्यर्थियों को भी अब महिलाओं की प्रक्रिया के पूरी होने का इंतजार है।
बच्चे व परिजन भी हुए परेशान
नौकरी के लिए दूरदराज स्थलों से आई महिला अभ्यर्थियों के साथ-साथ उनके परिजनों व छोटे बच्चों को भी ठंड में काफी परेशान होना पड़ा। बुधवार को गलन अधिक होने की वजह से अभ्यर्थी ठंड से भी जूझते नजर आए। उन्हें राहत इस बात की थी कि लंबी प्रतीक्षा के बाद उन्हें वह सफलता मिल रही है जिसके लिए वे लंबे समय से प्रयत्नशील रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.