यूपी टीईटी 2018 परीक्षा तैयारी टिप्स

उत्तर प्रदेश अध्यापक पात्रता परीक्षा यानी UPTET 2018 की परीक्षा आयोजन 4 नवंबर, 2018 किया जायेगा। परीक्षा की तारीख आने के बाद उसकी तैयारी की भी प्लानिंग करनी पड़ती है। ये तैयारी कैसे की जाए, इसके लिए अभी से शुरूआत करनी होगी। उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग UP Basic Education Department and uptet official website https://upbasiceduboard.gov.in

कौन सा प्रश्न पत्र किसके लिए होगा: टीईटी परीक्षा दो भागों में आयोजित की जाती है। एक प्राइमरी (पेपर 1st) और दूसरी अपर-प्राइमरी (पेपर 2nd)। प्राइमरी टीचर का अर्थ हुआ कक्षा 1 से 5 तक पढ़ाने वाले शिक्षक जबकि अपर-प्राइमरी टीचर का मतलब है कक्षा 6 से 8 तक पढाने वाला शिक्षक। यानि जो लोग पहली से 5वीं क्लास तक पढ़ाना चाहते उनके लिए पेपर 1st का आयोजन किया जाता है। जो लोग उच्च प्राथमिक स्तर यानि क्लास 6-8 के अध्यापक बनना चाहते हैं उनके लिए पेपर 2nd का आयोजन किया जाता है।

यह भी बताते चलें कि दोनों स्तर क्लास 1-5 तक और क्लास 6-8 के लिए शिक्षक बनना चाहते है उन्हें दोनों पेपरों में शामिल होना होगा। इससे उन्हें आसानी से नौकरी कहीं न कहीं मिल सकती है। अभ्यर्थी इसके हिसाब से तैयारी कर सकते हैं।

कैसा होगा टीईटी परीक्षा का पैटर्न: टीईटी परीक्षा के पैटर्न अनुसार सभी प्रश्न एक सही उत्तर के साथ चार विकल्प वाले बहुविक्लपीय प्रश्न आते है। हर प्रश्न एक अंक होगा। इस परीक्षा में नकारात्मक मूल्याकंन नहीं होता। इसी हिसाब से परीक्षार्थियों को तैयारी करनी होगी। इसमें पूरा प्रश्रपत्र सही तरीके से हल करना होगा। गलत उत्तर के नम्बर नहीं कटेंगे।

परीक्षा की प्लानिंग: परीक्षा की प्लानिंग: किसी भी परीक्षा की सफलता काफी हद तक उसकी सही प्लानिंग पर निर्भर करती है। अगर परीक्षा की सही से प्लानिंग की जाये तो सफलता के चांस बढ़ जाते हैं। परीक्षा से पहले आपको सही प्लानिंग करनी चाहिए। परीक्षा की प्लानिंग करने के लिए पहले अपने आपको आंकें। आप किस विषय में अच्छे हैं और किस में कमजोर। फिर उसके बाद परीक्षा की प्लानिंग बनाएं।

टाइम मैनेजमेंट: परीक्षा की प्लानिंग के बाद टाइम मैनेजमेंट का नंबर आता है। हर विषय के महत्व को देखते हुए आपको यह तय करना होगा कि कितना समय किस विषय पर देना है। साथी ही यह भी देखना होगा कि आप जिस विषय में कमजोर हैं, उस पर ज्यादा ध्यान दें।

स्टडी मटीरियल: पहले बुनियादी कॉन्सेप्ट को क्लियर कर लें। इसके लिए एनसीईआरटी की किताबें बेहतर सोर्स होंगी। एनसीईआरटी की किताबों के लास्ट में दी गई एक्सर्साइज को जरूर हल करें। फिर बीते साल के क्वेस्चन पेपर को हल करें। इसके बाद किसी विश्वसनीय प्रकाशन की संबंधित पुस्तक लेकर अभ्यास करें। जो पढ़ें, उसका नोट बनाना न भूलें। अहम बातों को पॉइंट में नोट कर लें।

रिविजन: परीक्षा की तैयारी में पढ़ने से भी सबसे ज्यादा अहम चीज रिविजन करना है। हकीकत यह है कि इंसान का दिमाग एक बार पढ़ी हुई चीज को कुछ समय अंतराल के बाद भूलना शुरू कर देता है और अगर दोबारा नहीं पढ़ा तो कुछ समय के अंदर सब कुछ भूल जाते हैं। दूसरी ओर जब आप बार-बार रिविजन करते हैं तो चीजें पक्के तौर पर याद हो जाती है जिसे आप कभी नहीं भूलते। इसके अलावा गणित और हल करने वाले अन्य विषयों में भी आप रिविजन से परफैक्ट होते हैं।

पढ़ें- Two Arrested from Kaushambi in BTC Paper Leak Case

UPTET 2018 Exam Preparation Tip

UPTET 2018 news पढ़ने के लिए आप हमारे ब्लॉग को सब्सक्राइब कर सकते है। जिससे आपको हमारे ब्लॉग की लेटेस्ट पोस्ट का नोटिफिकेशन मिल सके।

23 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.