टीईटी 18 नवंबर व शिक्षक भर्ती परीक्षा छह जनवरी को

लखनऊ : कौशांबी में पिछले दिनों बीटीसी 2015 बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षा का पेपर लीक होने के कारण से परीक्षा निरस्त कर दी गई थी जिसको लेकर बीटीसी छात्रों में काफी नाराज थे। नाराज छात्रों ने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया और मांग करने लगे कि बीटीसी 2015 बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षा UPTET 2018 से पहले पहले कराये। बीटीसी छात्रों के धरना प्रदर्शन को देखते हुए सरकार ने निरस्त की गई बीटीसी 2015 बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षा को UPTET 2018 परीक्षा से पहले करने का आदेश दिया साथ ही साथ UPTET 2018 परीक्षा की तारीख भी बदली गई।

अब निरस्त की गई बीटीसी 2015 बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षा एक से तीन नवंबर को होगी। उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा यानि यूपीटीईटी की परीक्षा चार नवंबर की बजाय 18 नवंबर को कराने का निर्णय लिया गया है। 10 दिसंबर को दोनों परीक्षाओं का रिजल्ट घोषित किया जाएगा। परिषदीय प्राथमिक स्कूलों में 68500 सहायक शिक्षक भर्ती के दूसरे चरण के लिए लिखित परीक्षा छह जनवरी को होगी। शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 11 से 25 दिसंबर तक होगा।

बेसिक शिक्षा विभाग की परीक्षाओं में हुई अनियमितताओं और पेपर लीक होने की घटनाओं से नाराज मुख्यमंत्री योगी ने शुक्रवार को आला अफसरों के साथ मैराथन बैठक की। बैठक में मुख्य सचिव डॉ.अनूप चंद्र पांडेय, अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा डॉ.प्रभात कुमार, बेसिक शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी और पुलिस व एसटीएफ के अधिकारी भी मौजूद रहे। इस बैठक में मुख्यमंत्री का जोर इस बात पर रहा कि पेपर लीक होने से कोई भी योग्य अभ्यर्थी शिक्षक बनने का मौका न चूके। वहीं परिषदीय स्कूलों में शिक्षकों की कमी जल्दी दूर की जाए। उधर यूपीटीईटी चार नवंबर को कराए जाने पर बीटीसी 2015 बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षा देने वालों की मांग थी कि निरस्त परीक्षा पहले करायी जाए जिससे कि वह शिक्षकों की अगली भर्ती में शामिल होने से न रह जाएं।

बैठक में अफसरों के साथ मुख्यमंत्री ने विस्तृत विचार विमर्श किया। उन्होंने बेसिक शिक्षा विभाग के अफसरों को बीटीसी 2015 बैच के चौथे सेमेस्टर की परीक्षा, यूपीटीईटी तथा 68500 सहायक अध्यापकों की भर्ती के दूसरे चरण के लिए प्रस्तावित लिखित परीक्षा की समय-सारिणी तय करने का निर्देश दिया।

शिक्षक भर्ती परीक्षा का पैटर्न बदलेगा : मुख्य सचिव और अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा ने बैठक में लिए गए फैसलों की जानकारी दी। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि पिछली गलतियों से सीख लेते हुए 68500 सहायक अध्यापकों की भर्ती के दूसरे चरण के लिए छह जनवरी को आयोजित की जाने वाली शिक्षक भर्ती परीक्षा के पैटर्न में बदलाव किया जाएगा। आगामी परीक्षा में लघु उत्तरीय प्रश्न नहीं होंगे। परीक्षा में सिर्फ बहु-विकल्पीय प्रश्न होंगे। यह परीक्षा ऑप्टिकल मार्क रिकग्निशन (ओएमआर) आधारित होगी। उन्होंने बताया कि यूपीटीईटी के लिए 18.25 लाख अभ्यर्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया है।

पढ़ें- बीटीसी 2015 तृतीय सेमेस्टर सहित कई सत्र का रिजल्ट जारी नहीं हुआ

UPTET 2018 Exam on 18th November

0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.