चहारदीवारी विहीन स्कूलों में नौनिहाल असुरक्षित

जिले में शनिवार को नए सत्र का शुभारंभ हुआ। इसके साथ ही सरकारी स्कूलों में चहल-पहल बढ़ गई है। लेकिन इन विद्यालयों में चहारदीवारी न होने से हर समय मासूमों पर खतरा मंडराता रहता है। शिक्षा के प्रति लोगों में जागरूकता लाने के लिए स्कूल चलो अभियान भी चलाये जाने की रणनीति तैयार है। लेकिन, इन विद्यालयों में पढ़ने वाले मासूम बच्चों की सुरक्षा को लेकर जिम्मेदारों को तनिक भी फिक्र नहीं है।

टांडा शिक्षा क्षेत्र में कुल 160 प्राथमिक विद्यालय तथा 66 जूनियर विद्यालय हैं। प्राथमिक विद्यालयों और जूनियर विद्यालयों में कुल 17 हजार 763 छात्र-छात्रएं अध्यनरत हैं। इन विद्यालयों के भवन का तो निर्माण हुआ है, लेकिन अधिकांश विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों की सुरक्षा के लिए विद्यालय के चारों तरफ बनने वाली चहारदीवारी अब तक नहीं बनवाई जा सकी है। टांडा शिक्षा क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालयों पर नजर डाली जाए तो यहां 32 प्राथमिक विद्यालय चहारदीवारी विहीन हैं।

जबकि, क्षेत्र के 28 जूनियर विद्यालयों को चहारदीवारी की दरकार है। इसके अलावा बसखारी शिक्षा क्षेत्र में भी हजारों की संख्या में पढ़ने वाले बच्चे हैं। यहां के कुल 118 प्राथमिक विद्यालयों में से 90 विद्यालयों में बढ़ने वाले बच्चों की सुरक्षा को लेकर बनने वाली चहारदीवारी का निर्माण अब तक नहीं हो सका है। इसके साथ ही यहां स्थित 42 जूनियर विद्यालयों में से 30 में चहारदीवारी बनाए जाने की मांग आज भी अनसुनी है।

इसका नतीजा यह हुआ है कि यहां चहारदीवारी न होने के चलते बच्चों पर हर समय खतरा मंडराता रहता है। क्षेत्र के सभी चहारदीवारी विहीन विद्यालय गांवों के संपर्क मार्ग तथा मुख्य मार्गो पर बने हैं। कई ऐसे भी विद्यालय हैं, जो तालाबों, पोखरों तथा नदी के किनारों पर बने हैं। बच्चे अक्सर सड़कों पर ही खेलते-कूदते रहते हैं। आलम यह है कि चहारदीवारी न होने से हर समय दुर्घटना की आशंका बनी रहती है।

खंड शिक्षा अधिकारी रामचंद्र मौर्य ने बताया कि चहारदीवारी का निर्माण गांव की शिक्षा समिति तथा प्रधानाध्यापक मिलकर कराते हैं। इसके लिए शासन द्वारा बजट आवंटित किया जाता है। बजट आते ही सभी विद्यालयों की चहारदीवारी बनवाई जाएगी।शिक्षा क्षेत्र टांडा के अंतर्गत आने वाला चहारदीवारी विहीन प्राथमिक विद्यालय ककराही ’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *