1620 विद्यालय, 26 में बंटी डेस

जिस बात का अनुमान था वहीं हुआ। पहली जुलाई को परिषदीय स्कूलों को यूनीफार्म वितरण के नाम रस्म अदायगी ही की गई। ग्रीष्मावकाश के बाद पहले दिन जनपद के 26 विद्यालयों के करीब दो हजार बच्चों को यूनीफार्म वितरित किया जा सका। जबकि जनपद में 1620 विद्यालयों में अध्ययनरत 2.26 लाख बच्चे पंजीकृत हैं।

पाठ्यपुस्तकों का भी यही हाल रहा। सिर्फ कक्षा छह की तीन विषयों की पुस्तकें बंट सकी। जनपद के सभी उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कक्षा छह के बच्चों को तीन विषयों की किताबें उपलब्ध कराने का बीएसए ने दावा किया है। इस प्रकार बेसिक शिक्षा विभाग कक्षा छह के बच्चों को भी पूरी किताबें नहीं उपलब्ध करा सका। जबकि सीबीएसई की तर्ज पर का नया सत्र पहली अप्रैल से शुरू चल रहा है। वहीं ग्रीष्मावकाश के बाद सभी बच्चों को यूनीफार्म व किताबें बांटने का दावा किया जा रहा था, जबकि बेसिक शिक्षा विभाग ने इसकी तैयारी समय ने नहीं की थी। यही कारण है कि दो हजार बच्चों के बीच यूनीफार्म वितरित कर रस्म अदायगी करनी पड़ी।

नए कलेवर में ड्रेस पाकर चहके बच्चे : शासन के निर्देश पर इस वर्ष ों के बच्चों को गुलाबी रंग की चेक का शर्ट व भूरे रंग का पेंट/स्कर्ट वितरित किए जा रहे हैं। इससे पहले ों में खाकी रंग यूनीफार्म निर्धारित था। ऐसे में नए कलेवर में यूनीफार्म पाकर बच्चे चहक उठे।

प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालय में बच्चों को यूनीफार्म व किताबों का वितरण सूबे के विधि न्याय सूचना, खेल युवा कल्याण राज्य मंत्री डा. नीलकंठ तिवारी ने किया। उन्होंने ने कबीरचौरा स्कूल को मॉडल स्कूल के रूप में विकसित करने की घोषणा की। समारोह के बाद बच्चों ने स्कूल चलो रैली भी निकाली। इस मौके बीएसए जयकरन यादव बीईओ बृजेश राय सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

जयापुर व नागेपुर में भी बंटा यूनीफार्म : प्रधानमंत्री के आदर्श गांव जयापुर व नागेपुर प्राथमिक विद्यालय के बच्चों को भी यूनीफार्म वितरित किया गया। जयापुर में मुख्य अतिथि विधायक नील रतन पटेल ने बच्चों को ड्रेस वितरित किया। अध्यक्षता बीएसए व धन्यवाद ज्ञापन बीईओ स्कंद गुप्ता ने दिया।

इन विद्यालयों में भी बंटे ड्रेस प्राथमिक विद्यालय : कचनार, देईपुर, जगतपुर, चोलापुर प्रथम, सिसवां, कंचनपुर बड़ागांव अजांव, सैरागोपालपुर

उच्च प्राथमिक विद्यालय : देइपुर, डेहरियां, चोलापुर विनायक, बेसहूपुर, बरकी, बरनी, आमिनी, रामेश्वर, बरेमा मुनारी।

जूता-मोजा भी जल्द : इस वर्ष बच्चों को मुफ्त जूता-मोजा भी मिलेगा। इसके लिए शासन ने बीएसए से छात्रसंख्या मांगी थी। शनिवार को जनपद के 1620 विद्यालयों में पंजीकृत 2.26 लाख बच्चों की संख्या शासन को भेज दी गई।

दो दूनी चार भी भूल गए बच्चे वाराणसी : ग्रीष्मावकाश के बाद शनिवार को स्कूल -कालेज खुल गए। शैक्षिक संस्थाओं में करीब डेढ़ माह से चला आ रहा सन्नाटा टूट गया और चहल पहल बढ़ गई। वहीं पहले दिन ों के अध्यापकों ने बच्चों की यादें साझा कराई। ग्रीष्मावकाश के पहले पढ़ाए गए पाठ्यक्रमों को दोहराने का कार्य किया। वहीं ग्रीष्मावकाश के बाद स्कूल आने वाले कई बच्चे दो-दूनी चार तक भूल गए थे, हालांकि अनेक बच्चों को पिछला सब कुछ याद था। हालांकि ग्रीष्मावकाश के पहले दिन ज्यादातर विद्यालय में शिक्षक पढ़ाई से अधिक माहौल बनाने में लगे रहे ताकि बच्चे स्कूल आने से न भागे।

कार्रवाई की जद में होंगे अनदेखी करने वाले अफसर
वाराणसी : प्रदेश के कानून, युवा मामले व खेलकूद राज्यमंत्री नीलकंठ तिवारी ने शनिवार को पीएम के संसदीय कार्यालय में जन सुनवाई की। उन्होंने उन मामलों में अधिकारियों की फोन पर ही जमकर क्लास लगाई जिन पर अभी तक कार्रवाई नहीं हुई है। पुलिस को भी लाइन पर लिया। सख्त लहजे में कहा कि संसदीय कार्यालय में आए मामलों के निस्तारण में हीलाहवाली करने वाले अब कार्रवाई की जद में आएंगे।प्रदेश के राज्यमंत्री तिवारी अपने निर्धारित समय पर कार्यालय आ गए थे।

लगभग साढ़े तीन घंटे तक हुई जन सुनवाई में मारपीट के मामलों में पुलिस द्वारा कार्रवाई न करना, थाने से टरका देना, सीवर जाम, आइपीडीएस के कार्य में शिथिलता जैसी समस्याएं आईं। मंत्री ने संबंधित थानेदारों, नगर निगम के अधिकारियों को फोन कर मामलों को निबटाने का निर्देश दिया। महिला समाख्या की जिला कार्यक्रम समन्वयक रंजना तिवारी व नरेंद्र पटेल ने महिला हेल्पलाइन 181 में कार्य करने वाले संविदा कर्मियों का मानदेय बढ़ाने के लिए आवेदन किया।

119 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.