माध्यमिक व बेसिक शिक्षा आदि विभागों में करीब दो लाख पदों की भर्तियां

इलाहाबाद योगी सरकार नए साल में युवाओं पर मेहरबान होगी। मार्च में भाजपा सरकार के गठन के बाद अधिकांश भर्ती आयोगों, माध्यमिक व बेसिक शिक्षा आदि विभागों में करीब दो लाख पदों की भर्तियां रुकी थीं, इन भर्तियों का बांध नए साल में टूटना तय है। भाजपा ने अपने घोषणापत्र में भले ही 90 दिन में भर्तियां शुरू कराने का वादा किया था, जो कुछ देर से ही सही 270 दिन बाद शुरू करने की तैयारी है। सूबे में सरकार बदलने के बाद तमाम अहम भर्तियों का तौर-तरीका बदला गया है। राजकीय माध्यमिक कालेजों की एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती मेरिट के बजाए अब लिखित परीक्षा के जरिये होगी। वहीं, प्राथमिक स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती के लिए भी युवाओं को अलग से लिखित परीक्षा देनी होगी। इसी के साथ विभिन्न आयोगों के बोर्ड में भी बदलाव हो रहा है। अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के अध्यक्ष राजकिशोर यादव ने सरकार बदलने के कुछ दिन बाद ही त्यागपत्र दे दिया था, लेकिन यह रस्म उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग, माध्यमिक शिक्षा सेवा चयन बोर्ड उप्र आदि में नहीं दोहराई गई। इनके विलय की बात बढ़ने पर किसी तरह से दोनों आयोग के अध्यक्ष व सदस्यों ने इस्तीफा सौंपा। जैसे-जैसे आयोगों के बोर्ड खाली होते गए उनके पुनर्गठन की प्रक्रिया चल पड़ी है। अधीनस्थ आयोग में आवेदन लिए जा चुके हैं, जबकि उच्चतर व माध्यमिक में 16 नवंबर तक आवेदन लिए जाने हैं।

पढ़ें- शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा का प्रस्ताव जल्द 

माना जा रहा है कि दिसंबर तक इन सभी आयोगों का गठन पूरा हो जाएगा, उसके बाद भर्तियों की प्रक्रिया पूरी होगी। राजकीय माध्यमिक कालेजों में भर्ती कराने का प्रस्ताव उप्र लोकसेवा आयोग को पहले ही सौंपा जा चुका है। वहीं, बेसिक शिक्षा परिषद की रुकी भर्तियों से हाईकोर्ट ने रोक हटा ली है और दो माह में रुकी भर्तियों को पूरा करने को कहा गया है। उच्चतर शिक्षा आयोग, चयन बोर्ड व अधीनस्थ सेवा आयोग का पुनर्गठन

पढ़ें- बीएड की फ़र्ज़ी डिग्री से नौकरी प्राप्त करने वाले शिक्षकों पर बर्खास्तगी की तलवार लटकी, 2004 के बाद तैनात शिक्षकों की बीएड डिग्री जांची जाएगी

बेसिक व माध्यमिक शिक्षा विभागों में भी सात माह से रुकी थीं भर्तियां 1कोई भी सरकार सत्ता में आने के बाद पहले से चल रही चीजों को समझती है। भर्ती का मामला युवाओं से जुड़ा है। उसकी प्रक्रियागत नीति में बदलाव करना सरकार का कर्त्तव्य है। योगी सरकार ने इस काम में ज्यादा देर नहीं लगाई है। एमपी दुबे, कुलपति राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय इलाहाबाद

पढ़ें- नर्सरी से 12वीं तक के शिक्षकों के लिए अनिवार्य होगा टीईटी

ये भर्तियां लंबित

बेसिक शिक्षा
पद                                               कुल संख्या
प्राथमिक शिक्षक –                              68500
उ.प्रा. विद्यालयों में अनुदेशक –             32022
प्राथमिक शिक्षक –                              12460
प्राथमिक शिक्षक (उर्दू) –                      4000

उ. प्रा. विद्यालयों में गणित विज्ञान शिक्षक – 29334 में से बचे पद

प्राथमिक शिक्षक – 16448 में से बचे पद
प्राथमिक शिक्षक – 72825 में से बचे पद

Madhyamik Shiksha

एलटी ग्रेड राजकीय संपूर्ण – 9892
टीजीटी 2011 अशासकीय – 1400
पीजीटी 2011 अशासकीय – 445
टीजीटी 2016 अशासकीय – 7950
पीजीटी 2016 अशासकीय – 1344
राजकीय (पूर्व शिक्षक) – 26000

उच्च शिक्षा
असिस्टेंट प्रोफेसर अवशेष – 1652
असिस्टेंट प्रोफेसर संपूर्ण – 1150
प्राचार्य अशासकीय कालेज – 284

अधीनस्थ सेवा चयन आयोग
जूनियर असिस्टेंट – 5306
लेखाकार – 2800, वीडीओ- 3133
गन्ना पर्यवेक्षक – 437

two lakh bharti in madhyamik and basic shiksha parishad

two lakh posts Recruitment in madhyamik va besic shiksha

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *