शिक्षामित्रों का सत्याग्रह दूसरे दिन भी जारी

लखनऊ : sahayak adhyapak pad का समायोजन रद होने पर प्रदेश भर से आए हजारों शिक्षामित्रों ने मंगलवार को भी धरना और प्रदर्शन जारी रखा। शिक्षामित्रों ने शासन के प्रस्ताव 10 हजार रुपये मानदेय, UPTET व recruitment में अधिकतम 25 अंक तक वेटेज का भी विरोध किया है। वे मुख्यमंत्री से वार्ता व sahayak adhyapak pad पर बने रहने की मांग पर अड़े हुए हैं।

प्रदर्शन के दौरान shikshamitra शैलेंद्र सिंह की एकाएक हालत बिगड़ गयी। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यह देख शिक्षामित्रों ने शासन और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी के साथ धरना जारी रखा। Uttar pradesh prathmik shiksha mitra sangh के प्रांतीय संरक्षक शिव कुमार शुक्ला व शिक्षक उत्थान समिति के प्रदेश अध्यक्ष शिव किशोर द्विवेदी ने बताया कि वह मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ से बातचीत व sahayak adhyapak pad पर उनके समायोजन की मांग पूरी नहीं की जाएगी तब तक प्रदर्शन बंद नहीं करेंगे।

पढ़ें- प्रदेश में शिक्षकों के तबादले व समायोजन पर 14 सितंबर तक रोक

आज यदि मांगें न मानीं तो अन्न जल त्याग कर होगा प्रदर्शन1प्रांतीय संरक्षक शिव कुमार शुक्ला ने कहा कि 24 घंटे के अंदर बुधवार शाम तक अगर उनकी मुख्यमंत्री से मुलाकात के साथ ही अगर मांगे पूरी न की गयी तो वह सत्याग्रह छोड़कर बड़ा आंदोलन करेंगे। वह अन्न-जल छोड़कर धरना देंगे। इसके बाद सड़क पर उतर कर बड़ा प्रदर्शन करेंगे।

मंच पर भिड़ीं महिलाएं- दोपहर करीब डेढ़ बजे प्रदर्शन के दौरान धरना स्थल स्थित मंच पर संघ के लोग शासन के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। तभी किसी बात को लेकर shikshamitra सुमन और रीना आपस में भिड़ गई। बवाल बढ़ता देख संघ के पदाधिकारियों ने सुमन के हाथ से माइक ले लिया और दोनों को शांत करा दिया।

पढ़ें- गाजी इमाम आला और जितेंद्र शाही ने जारी की प्रेस विज्ञप्ति

अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा से बात करने से इन्कार दोपहर करीब डेढ़ बजे सीओ हजरतगंज, एसीएम, व इंस्पेक्टर समेत कई अधिकारी धरना स्थल पहुंचे। उन्होंने शिक्षामित्रों से धरना समाप्त करने की मांग करते हुए अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा राज प्रताप सिंह से मुलाकात करने का प्रस्ताव रखा। लेकिन शिक्षामित्रों ने इससे भी इन्कार कर दिया। वह मुख्यमंत्री से मुलाकात करने की जिद पर अड़े रहे।

शिक्षामित्रों का सत्याग्रह जारी, गिरफ्तारी देंगे

लक्ष्मण मेला मैदान में शिक्षा मित्रों का सत्याग्रह दूसरे दिन मंगलवार को भी जारी रहा। यह लोग सुप्रीम कोर्ट द्वारा सहायक अध्यापक पद पर हुए समायोजन को रद्द किए जाने से नाराज होकर हजारों की तादाद में यहां मौजूद रहे। उनका कहना है कि जब तक उन्हें बेरोजगारी से बचाने के लिए नया अध्यादेश नहीं लाया जाता तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने सकारात्मक निर्णय न होने पर उग्र आंदोलन करने की चेतावनी दी।यह सभी Uttar pradesh prathmik shiksha mitra sangh के बैनर तले एकजुट हुए थे।

पढ़ें- UPTET-2017 की समय सारिणी ऑनलाइन

सड़क जाम करने की कोशिश हुई नाकाम : शांतिपूर्ण प्रदर्शन के दौरान कुछ शिक्षामित्रों ने सड़क जाम करने की कोशिश की। जैसे ही यह लोग धरनास्थल से निकल कर सड़क पर पहुंचे पुलिस ने बैरिके¨डग लगाकर उनका रास्ता रोक दिया। दोनों पक्षों के बीच काफी देर चली बहस के दौरान जिला प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे। किसी तरह शिक्षामित्रों को समझा-बुझाकर वापस धरनास्थल भेज दिया गया।

विधानभवन पर दिखी पुलिस की मुस्तैदी : शिक्षामित्रों के प्रदर्शन के पहले दिन शासन और प्रशासन की ओर से विधानभवन की सुरक्षा में दिखी खामियां भी दुरुस्त दिखी। यहां काफी संख्या में पूरे दिन सुरक्षा बल मुस्तैद रहा। वाटर कैनन और फायर बिग्रेड की गाड़ियां भी तैयार दिखी। इस बीच यहां से गुजरने वाले हर शख्स को विधानभवन के सामने रुकने पर पाबंदी रही।

shikshamitra satyagraha continue second dayshikshamitra satyagraha continue second day

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.