शिक्षामित्रों का वेतन 17 हजार होने की अफवाह सोशल मीडिया पर वायरल

Shikshamitra salary को लेकर दिनभर सोशल मीडिया पर एक लेटर सुर्खियों में बना रहा। जिसमें शिक्षामित्रों का वेतन 17 हजार करने के संबंध में था। लेटर की हकीकत जानने के लिए लोगों के फोन व मोबाइल बजते रहे। जब बेसिक शिक्षा मंत्री कार्यालय से संपर्क करने पर लेटर की हकीकत से पर्दा उठा। शिक्षामित्रों वेतन के संबंध में जो लेटर जारी हुआ, वह फर्जी निकला। वहीं, बेसिक शिक्षा मंत्री कार्यालय ने इस मामले पर जांच बिठा दी है। दरअसल, बेसिक शिक्षा परिषद् सचिव संजय सिन्हा के आदेश से जारी फर्जी लेटर social media के जरिए शिक्षामित्रों तक पहुंचा। इसमें लिखा था कि शिक्षामित्रों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया। मुख्यमंत्री के निर्देश पर विभाग ने तत्काल सभी shikshamitra mandey 17 हजार रुपये कर दिया हैं। सभी जनपदों के BSA शिक्षामित्रों को उनके मूल विद्यालय में सात दिनों के भीतर कार्यभार ग्रहण कराए। निर्देशों की अवहेलना कर कार्यभार ग्रहण नहीं करने वाले शिक्षामित्रों की सेवा समाप्त होगी।

पढ़ें- मुख्यमंत्री से मिले शिक्षामित्र

 

बेसिक शिक्षामंत्री कार्यालय ने किया खुलासा :

दैनिक जागरण संवाददाता के हाथ में यह लेटर पहुंचा तो बेसिक शिक्षामंत्री अनुपमा जायसवाल के मोबाइल पर संपर्क किया गया। ऐसा कोई लेटर सचिव ने जारी किया है या नहीं, यह जांचने में स्टॉफ लग गया। पांच मिनट के बाद मंत्री कार्यालय से फोन आया और लेटर के फर्जी होने की पुष्टि की गई। साथ ही इस फर्जी लेटर पर जांच बिठाने का दावा किया गया।

चढ़ाई आस्तीन, फूंका आंदोलन का बिगुल :

फर्जी लेटर की पुष्टि होने से पहले ही विरोधी स्वर मुखर होने लगे। shikshamitra नेताओं ने आस्तीन चढ़ा ली और 16 अगस्त से आंदोलन का बिगुल फूंक दिया। कहा, shikshamitra pad पर वापसी को तैयार नहीं है। सम्मान वापस पाने को आरपार की लड़ाई से पीछे नहीं रहेंगे।

पढ़ें- बी. एड. टी.ई.टी. धारकों ने शिक्षामित्रों के स्थान पर समायोजन की मांग की

“हमें सम्मान चाहिए, खैरात नहीं। अपने पद से इस्तीफा देना मंजूर है, लेकिन 17 हजार रुपये मानदेय नहीं। संगीता, शिक्षामित्र

फिलहाल जो लेटर दिखाया जा रहा है, वह फर्जी है। यदि सरकार ऐसा कोई आदेश जारी करेगी तो संगठन उसे मंजूर नहीं करेगा। डॉ.केपी सिंह, जिलाध्यक्ष, samayojit shikshamitra

पढ़ें- शिक्षामित्रों के लिए सीएम से की गईं पांच मांगें, योगी बोले- सरकार आप के साथ 

शिक्षक संघलेटर पढ़कर को सम्मान को ठेस पहुंची। 40 हजार रुपये पाने वाले 17 हजार रुपये पाएंगे, यह बर्दाशत नहीं होगा। संजू कटियार, जिलाध्यक्ष, महिला मोर्चा शिक्षामित्र संघ

सरकार शिक्षामित्रों के दर्द को महसूस करे और पुनर्विचार याचिका डालकर शिक्षामित्रों को समायोजित करे। 1अरुण कुमार, शिक्षामित्र

shikshamitra salary letter viral on social media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *