प्रदेश के 1.37 लाख शिक्षामित्र मूल पद पर किए गए वापस

राजधानी में सोमवार से शुरू हुए शिक्षामित्रों के आंदोलन से हरकत में आई राज्य सरकार ने कई महत्वपूर्ण फैसले किये हैं। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में शासन ने assistant teacher के पद पर समायोजित किये गए 1.37 लाख शिक्षामित्रों को पहली अगस्त से shikshamitra के पद पर वापस करने और उन्हें 10 thousand rupees Monthly manadey देने का फैसला किया है। Teacher post पर samayojit shikshamitra को जहां अभी तक 38,800 रुपये वेतन मिल रहा था, वहीं समायोजन से वंचित शिक्षामित्रों को 3,500 thousand rupees Monthly manadey मिलता है। वहीं शिक्षामित्रों को primary teachers की recruitment में मौका देने के लिए 15 अक्टूबर को Uttar Pradesh Teacher Eligibility Test – UPTET 2017 आयोजित कराने का निर्णय किया गया है। Recruitment of Teachers में शिक्षामित्रों को अधिकतम 25 अंक तक भारांक (वेटेज) देने के लिए नियमावली में संशोधन करने का भी फैसला हुआ है। Teacher recruitment के लिए दिसंबर में विज्ञापन प्रकाशित होगा।

पढ़ें- शिक्षा मित्र आंदोलन डायरी जिलेवार

अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा राज प्रताप सिंह ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में सरकार शिक्षामित्रों को teacher बनने का मौका देने जा रही है। shikshamitra shikshak बनने के लिए TET की अनिवार्य अर्हता प्राप्त कर सकें, इसके लिए 15 अक्टूबर को UPTET-2017 कराया जाएगा। Examination program जारी कर दिया गया है। शिक्षामित्रों को teacher की recruitment में उनके अनुभव के आधार पर प्रत्येक सेवा वर्ष के लिए 2.5 अंक और अधिकतम 25 अंक तक भारांक (वेटेज) दिया जाएगा। शिक्षामित्रों को assistant teacher के पद पर नियुक्ति में भारांक का लाभ देने के लिए Uttar Pradesh Basic education (अध्यापक) सेवा नियमावली, 1981 में संशोधन कराया जाएगा। यह संशोधन शैक्षिक योग्यता और गुणांक निर्धारण में किया जाएगा। इसे जल्द ही कैबिनेट से मंजूर कराने की तैयारी है।

पढ़ें- शिक्षामित्रों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर वादाखिलाफी का आरोप

समान कार्य के लिए समान वेतन की मांग पर अड़े शिक्षामित्र उधर, samayojit shikshak shiksha mitra sangharsh morcha के बैनर तले सत्याग्रह शुरू करने वाले shiksha mitra समान कार्य के लिए समान वेतन की मांग पर अड़े हुए हैं। संघर्ष मोर्चा के प्रमुख घटक adarsh shikshamitra Welfare Association के प्रदेश अध्यक्ष जितेंद्र शाही ने कहा कि हमें समान कार्य के लिए समान वेतन से कम कुछ भी मंजूर नहीं है। इस मांग को लेकर शिक्षामित्रों का आंदोलन जारी रहेगा। प्रदर्शन से राजधानी जाम

पढ़ें- कलेक्ट्रेट से बीएसए दफ्तर तक गरजे Shikshamitra 

shikshamitra original post par vapas

shikshamitra original post par vapas

 

113 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.