शिक्षा मित्रों को 10 हजार रुपये मानदेय का शासनादेश जारी

शिक्षामित्रों को अगस्त से मिलेगा मानदेय, शासन ने शासनादेश जारी कर दिया है कि शिक्षामित्र 11 माह की संविदा पर रखे जाएंगे। इस शासनादेश में कहा गया है कि प्रदेश के 1,65,157 शिक्षामित्रों को एक अगस्त से 10 हजार रुपये मानदेय दिया जाएगा। इससे पहले के सभी शासनादेश निरस्त कर दिए गए हैं। वेतन रोककर 10 हजार मानदेय देना न्याय नहीं है। इतने मानदेय में तो शिक्षामित्र अपने बच्चों की पढ़ाई और परिवार का गुजरा भी करना मुश्किल होगा। दीपाली निगम, महामंत्री Up doorasth btc shikshak sangh हम शुरू से समान काम, समान वेतन की मांग शुरू से कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट ने भी मानदेय या वेतन देने पर रोक नहीं लगाई है। जिन्हें 39 हजार रुपये मिल रहे थे, उसे घटाकर 10 हजार कर देना अन्याय है। -गाजी इमाम आला, अध्यक्ष शिक्षा मित्र संघ

प्रदेश सरकार ने अपने रुख पर कायम रहते हुए बुधवार को शिक्षामित्रों को 10 हजार रुपये मानदेय का दिए जाने का शासनादेश जारी कर दिया। शासनादेश के अनुसार, शिक्षा मित्रों को 11 महीने की संविदा पर रखा जाएगा और
10 thousand rupees shikshamitra mandey  दिए जाएंगे। यह मानदेय उन्हें अगस्त से मिलेगा।

सपा सरकार में प्रदेश के 1,72,000 शिक्षा मित्रों को sahayak adhyapak बनाने का निर्णय लिया गया था। इनमें से लगभग 1,37,000 shikshamitra शिक्षक बन गए थे। सुप्रीम कोर्ट ने 25 जुलाई को अपने आदेश में इन्हें teacher बनाए जाने के सरकार के निर्णय को खारिज कर दिया था। उसके बाद से शिक्षा मित्रों ने लगातार आंदोलन किया। प्रदेश सरकार से कई दौर की वार्ता के 10 hajaar rupaye shikshamitra mandey का फॉर्म्युला निकाला गया।

पढ़ें- 50 फीसदी शिक्षामित्र उपस्थित रहे, योगी की कैबिनेट में मिल सकती है बड़ी राहत

shikshamitra mandey 10 thousand rupees

0 Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.